देहरादूनः बारहवीं के छात्र की हत्या कर नहर में फेंका शव, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उलझी पुलिस

देहरादूनः बारहवीं के छात्र की हत्या कर नहर में फेंका शव, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से उलझी पुलिस

प्रदेश में एक सनसानी खेज मामला सामने आया है। जिसने उत्तराखंड पुलिस को उलझा दिया है। देहरादून के वसंत विहार थाना क्षेत्र से लापता हुए इंटरमीडिएट के छात्र जय जुयाल का शव यमुनानगर (हरियाणा) स्थित हथिनीकुंड बैराज से बरामद किया गया है। बताया जा रहा है जय की हत्या कर शव को नहर में फेंका गया है। जवान बेटे की मौत से परिजनों में कोहराम मच गया है। पुलिस पहले आत्महत्या का मामला मान रही थी लेकिन पोस्टमार्टम रिर्पोट आने से मामला और उलझ गया है। बता दें कि छात्र की बारहवीं की बोर्ड परिक्षा चल रही है। लेकिन उसका करियर शुरू होंने से पहले ही खत्म हो गया ।

बता दें कि देहरादून के वसंत विहार थाना क्षेत्र से इंटरमीडिएट का छात्र जय जुयाल व कक्षा 11 की छात्रा आस्था 13 फरवरी को लापता हो गए थे। दोनों पड़ोसी थे। दोनों के परिजनों ने काफी तलाशने के बाद इंद्रानगर कालोनी पुलिस चौकी में अपहरण का मामला दर्ज कराया। पुलिस ने जांच शुरू की तो जय-आस्था की अंतिम लोकेशन विकासनगर कोतवाली के धौलातप्पड़, कुल्हाल क्षेत्र में मिली। इस पर पुलिस ने सर्च अभियान चलाया तो जय की स्कूटी लावारिस हालत में बरामद हो गई। इसके बाद से आशंका जताई जा रही थी कि दोनों शक्तिनहर में कूद गए होंगे।  जिसके कुछ समय बाद पुलिस को उप्र के खारा पावर हाउस कर्मियों ने इंटेक में दो शव देखे जाने की सूचना दी। एसडीआरएफ व पुलिस की टीमों ने खारा पावर हाउस पर शवों को तलाशने की कार्रवाई की। जहां से छात्रा आस्था का शव बरामद किया गया था। लेकिन जुयाल का कुछ पता नहीं चल पा रहा था। पुलिस और परिजन हर संभव प्रयास कर रहे थे।

यह भी पढ़ेंः देहरादूनः 13 फरवरी से लापता 11वीं की छात्रा का शव यूपी में बरामद, मच गया हड़कंप

इसी बीच हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से थाना खिजराबाद क्षेत्र में नहर से जय का शव बरामद हो गया। जय के शव का यमुनानगर में तीन डाक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया। यमुनानगर में डाक्टरों के पैनल ने जो रिपोर्ट दी है, उसमें मौत का कारण डूबना नहीं बताया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि जय के सिर पर लगी चोट से उसकी मौत होने की पूरी संभावना है।  रिपोर्ट में कहा गया है कि डूबने की स्थिति में शरीर के अंदर पानी मिलने की पूरी संभावना होती है, लेकिन जय के फेफड़ो में न पानी है और न बालू। परिजन न्याय की गुहार लगा रहे है। रो-रोकर उनका बूरा हाल है। करियर की शुरूवात करने के पूर्व ही छात्र की मौत ने परिवार को तोड़ दिया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *