उत्तराखंडः बर्फ से फिसलकर खाई में लटकी यात्रियों से भरी बस, 4 गंभीर घायल, मची चीख-पुकार

प्रदेश मे बर्फबारी मुसीबत बनी हुई। जहां एक और पर्यटक फंसे है। वहीं दूसरी और बर्फ के कारण हादसे हो रहे है। ताजा मामला नैनीतल का है यहां हल्द्वानी से नथुवाखान जा रही यात्रियों से भरी केमू की बस रामगढ़ में गागर के पास बर्फ में फिसलकर सड़क से नीचे चली गई।हालांकि कुछ दूरी पर जाकर बस पेड़ों से अटक गई। इस दौरान बस में सवार यात्रियों में चीख-पुकार मच गई। हादसे में चार लोग गंभीर घायल हो गए। जिन्हे हायर सेन्टर रेफर किया गया है।

जानकारी के अनुसाप हल्द्वानी से नथुवाखान जा रही केमू बस (यूके04 पीए01135) जैसे ही रामगढ़ में गागर के पास पहुंची, बर्फ में फिसलकर सड़क से नीचे खाई में चली गई। बस में 11 यात्री सवार थे। गनीमत यह रही कि नीचे की तरफ लगे पेड़ों पर बस अटक गई और वहीं पर रुक गई। और चीख -पुकार मच गई। जिसे सुन घटनास्थल पर भीड़ इक्कट्ठा हो गई। इससे बड़ा हादसा होने से बच गया। लोगों ने किसी तरह यात्रियों को बस से निकाला। सभी को रामगढ़ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां से चार की हालत गंभीर होने पर सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी रेफर कर दिया गया। बाकी सात सवारियों को मामूली चोटें आईं। वहीं हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन 108 एंबुलेंस 2 घंटे देरी से पहुंची,जबतक घायलों को स्थानिए लोगों ने अस्पताल पहुंचा दिया था।

यह भी पढ़ेंः नैनीतालः बेकाबू बस ने 4 साल के मासूम को कुचला, दर्दनाक मौत, भड़की भीड़ ने किया पथराव

प्रशासन को नहीं थी खबर 
हल्द्वानी से जब बस चली तो बस में 18 यात्री सवार थे, लेकिन रामगढ़ से सड़क पर बर्फ की स्थिति देखकर सात यात्री पहले ही उतर गए। इस कारण वह दुर्घटना का शिकार होने से बच गए।बर्फबारी के चलते दोपहर दो बजे तक रामगढ़ से आगे की सड़क छोटे-बड़े वाहनों के लिए बंद रही। सड़क पर इतनी बर्फ और फिसलन थी कि वाहनों का आगे बढ़ना संभव नहीं था, लेकिन इस बात की सूचना न तो प्रशासन और न लोक निर्माण विभाग को ही थी। दोपहर दो जेसीबी से मिट्टी डलवाकर सड़क को खुलवाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *