पीपल की जानें कैसे करें पूजा, जिससे होंगी सारी मनोकामनाएं पूरी

सारी मनोकामनाएं होंगी पूरी, जानें पीपल की कैसे करें पूजा

नई दिल्ली। अतीत से ही हिन्दू धर्म में पीपल के वृक्ष की पूजा की जाती है। वेदों और उपनिषदों में पीपल का वृक्ष भगवान विष्णु का स्वरूप माना गया है और हिन्दू लोग पीपल के वृक्ष की सच्चे मन से पूजा करते हैं। हिंदु धर्मग्रथों में लिखा है कि पीपल के हर कोपल, हर पत्ते और हर टहनी में 64 कोटि देवताओं का वास है। धर्म में पीपल वृक्ष को देवतुल्य माना गया है। तभी तो इसके पूजन का विधान शास्त्रों में भी बताया गया है। पीपल को कलियुग का कल्पवृक्ष माना जाता है। पीपल एकमात्र पवित्र देववृक्ष है जिसमें सभी देवताओं के साथ ही पितरों का भी वास रहता है।

ये भी पढ़ें-पीपल का पेड़ काटने से नाराज होते हैं शनिदेव

रविवार को पीपल पर जल चढ़ाना निषेध, ये चीजें करने से बचें

शास्त्रानुसार शनिवार को पीपल पर लक्ष्मी जी का वास माना जाता है तथा उस दिन जल चढ़ाना जहां श्रेष्ठ है वहीं रविवार को पीपल पर जल चढ़ाना निषेध है। शास्त्रों के अनुसार रविवार को पीपल पर जल चढ़ाने से जीव दरिद्रता को प्राप्त करते हैं। पीपल के वृक्ष को कभी काटना नहीं चाहिए। ऐसा करने से पितरों को कष्ट मिलते हैं तथा वंशवृद्धि की हानि होती है। किसी विशेष प्रयोजन से विधिवत नियमानुसार पूजन करने तथा यज्ञादि पवित्र कार्यों के लक्ष्य से पीपल की लकड़ी काटने पर दोष नहीं लगता। अकसर लोग ब्रह्ममुहूर्त में मंदिर जाते हैं, जो शुभ कर्म है लेकिन मंदिर जाकर पीपल के पेड़ पर जल न चढ़ाएं क्योंकि उस समय पर अलक्ष्मी वहां वास कर रही होती हैं। सूर्योदय के बाद ही पीपल पूजन करें।

सभी मनोकामनाओं होंगी पूरी ये चीजें करें

वहीं  पीपल के पेड़ का सिंचन, पूजन और परिक्रमा करने से जहां जीव की सभी कामनाओं की पूर्ति होती है वहीं शत्रुओं का नाश भी होता है। यह सुख सम्पत्ति, धन-धान्य, ऐश्वर्य, संतान सुख तथा सौभाग्य प्रदान करने वाला है। इसकी पूजा करने से ग्रह पीड़ा, पितरदोष, काल सर्प योग, विष योग तथा अन्य ग्रहों से उत्पन्न दोषों का निवारण हो जाता है। अमावस्या और शनिवार को पीपल के पेड़ के नीचे हनुमान जी की पूजा-अर्चना करते हुए हनुमान चालीसा का पाठ करने से कष्ट निवृत्ति होती है। प्रात: काल नियम से पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर जप, तप एवं प्रभु नाम का सिमरण करने से जीव को शारीरिक एवं मानसिक लाभ प्राप्त होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *