ASIA CUP 2018 :आखिरी गेंद पर 7वीं बार चैम्पियन बना भारत,बांग्लादेश को 3 विकेट से हराया

ASIA CUP 2018: India beat Bangladesh by 3 wickets,

एशिया कप-2018 के फाइनल मैच में भारत ने आखिरी गेंद पर चले बेहद ही रोमांचक मुकाबले में बांग्लादेश को 3 विकेट से हरा खिताब अपने नाम कर लिया। मैच में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए बांग्लादेश 48.3 ओवर में 222 रन पर सिमट गया। टारगेट का पीछा करते हुए टीम इंडिया ने आखिरी गेंद पर रोमांचक जीत दर्ज की।

आपको बता दे की दुबई में खेले गए एशिया कप फाइनल मैच में भारत ने आखिरी गेंद पर चले बेहद ही रोमांचक मुकाबले में बांग्लादेश को 3 विकेट से हराकर 7वीं बार एशिया कप का खिताब अपने नाम किया। विराट कोहली की गैर-मौजूदगी में कप्तानी कर रहे विस्फोटक सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा के नेतृत्व में टीम इंडिया ने पहली बार एशिया कप का खिताब अपने नाम किया। बांग्लादेश पर मिली करीबी जीत में रोहित शर्मा की कप्तानी की भी जमकर तारीफ हो रही है। भारत ने बांग्लादेश की ओर से दिए गए 223 रनों का लक्ष्य 50 ओवर में 7 विकेट गंवाकर हासिल कर लिया। केदार जाधव 23 और कुलदीप यादव 5 रन बनाकर नाबाद लौटे। इससे पहले टॉस हारकर भारत की तरफ से बल्लेबाजी का न्यौता पाने के बाद बांग्लादेश को ओपनर्स से शानदार शुरुआत मिली। इस मैच में लिटन दास और मेहदी हसन की सलामी जोड़ी ने ओपनिंग विकेट के लिए 120 रनों की साझेदारी की। मेहदी हसन 32 और लिटन दास 121 रन बनाकर आउट हुए। फाइनल मुकाबले में लिटन दास को उनकी शानदार शतकीय पारी के लिए ‘मैन आॅफ द मैच’ चुना गया। वहीं टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज टूर्नामेंट के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गए। उन्होंने एशिया कप 2018 में 5 मैच खेलकर, दो शतकों के साथ सत्तर से कुछ कम की औसत से 342 रन बनाए।

मेहदी हसन के आउट होते ही रोहित शर्मा ने अपने गेंदबाजों का बखूबी इस्तेमाल किया और बांग्लादेश मिडल ऑर्डर को टिकने नहीं दिया. यही वजह रही कि लिटन दास (121 रन) के अलावा कोई भी बल्लेबाज कुछ स्कोर नहीं कर सका और बाकी पूरी टीम महज 100 रन ही बना पाई। टारगेट का पीछा करते हुए टीम इंडिया को शिखर धवन के रूप में पहला झटका लगा। धवन 15 रन बनाकर पवेलियन लौटे। वहीं अंबाती रायडू (2) भी कुछ खास नहीं कर सके। हालांकि कप्तान रोहित शर्मा ने टीम को संभालने की कोशिश की, लेकिन 48 रन से ज्यादा का योगदान नहीं दे सके। महेंद्र सिंह धोनी (36) और दिनेश कार्तिक (37) के बीच चौथे विकेट के लिए अर्धशतकीय साझेदारी हुई, जिसने टीम को कुछ हद तक संभाला। केदार जाधव 19 रन बना चुके थे, लेकिन पैर में दिक्कत के चलते उन्हें लौटना पड़ा।

यह भी पढ़ेंः  IND vs ENG: भारत को मिली चौथे टेस्ट में 60 रन से हार ,सीरीज भी गंवाई
रवींद्र जडेजा (23) यहां से भारत को जीत के करीब ले गए। वह जब आउट हुए, तो एक बार फिर जाधव मैदान पर आए। मैच बेहद रोमांचक मोड़ पर आ चुका था और भारत को 11 गेंदों में 9 रन की दरकार थी। मैच आखिरी ओवर तक गया और फैंस की सांसें अटकी रहीं। केदार जाधव (नाबाद 23) ने कुलदीप यादव (नाबाद 5) के साथ मिलकर मैच की आखिरी गेंद पर भारत को जीत दिलाई। बांग्लादेश की ओर से रूबेल हुसैन और मुस्तफिजुर रहमान को 2-2 सफलता हाथ लगी। उनके अलावा नजमुल इस्लाम, मशरफे मुर्तजा और महमुदुल्लाह को 1-1 विकेट मिला। मैच के बाद कोच रवि शास्त्री से जब रोहित शर्मा की कप्तानी को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने रोहित की जमकर तारीफ की। रोहित शर्मा बहुत कूल थे, जो उनकी कप्तानी में भी दिखा। उन्होंने हर जगह धैर्य का परिचय दिया। बॉलिंग में जो बदलाव उन्होंने किए, वो तारीफ के लायक हैं। आखिरी 30 ओवर में सिर्फ 100 रन खर्च करना काबिल-ए तारीफ है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *