बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी बजरंग दल नेता योगेश राज गिरफ्तार,1 महिने बाद आया पकड़ में

Bajrang Dal leader Yogesh Raj arrested in Bulandshahr violence

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में कथित गो हत्या की घटना को लेकर पिछले साल 3 दिसंबर को भड़की हिंसा का आरोपी और बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज गिरफ्तार हो गया है। हिंसा की घटना के एक महीने बाद वह पुलिस के शिकंजे में आया है। भीड़ द्वारा हिंसा की इस घटना में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी। योगेश राज पर हिंसक भीड़ को भड़काने का आरोप है।

बता दें कि तीन दिसंबर को बुलंदशहर के स्याना में कथित गोहत्या को लेकर हुई हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी। साथ ही इसमें एक स्थानीय युवक सुमित कुमार की भी मौत हुई थी। योगेश राज ने इस मामले में अपना नाम सामने आने के बाद एक वीडियो जारी किया था जिसमें उन्होंने ख़ुद के बेक़सूर होने की बात कही थी।बता दें कि योगेश राज बजरंग दल का जिला संयोजक है। हिंसा की घटना के एक महीने बाद वह पुलिस के शिकंजे में आया है। योगेश राज पर हिंसक भीड़ को भड़काने का आरोप है। पुलिस ने बीती रात योगेश को बुलंदशहर की बीबीनगर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। योगेश खुर्जा से बुलंदशहर आते समय ब्रह्मानन्द कॉलेज के पास से पकड़ा गया। चिंग्रावती पुलिस चौकी पर हिंसा के बाबत स्याना थाने में 27 नामजद और 50-60 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इस दौरान सेना के जवान जितेंद्र मलिक को भी गिरफ्तार कर लिया गया था, जिसे अभी हिरासत में रखा गया है।

यह भी पढ़ेंः देश के 83 रिटायर IAS-IPS ने CM योगी से मांगा इस्तिफा,कहा- बुलंदशहर हिंसा नहीं गोकशी पर ध्यान

पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह पर कुल्हाड़ी से हमला करने के आरोप में बीते सोमवार को यूपी पुलिस ने कलुआ नाम के आरोपी को गिरफ्तार किया था। पुलिस के मुताबिक इम मामले में अब तक 33 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। गिरफ्तार आरोपी कलुआ ने पुलिस को बताया कि 3 दिसंबर को वह सड़क को अवरूद्ध करने के लिए पेड़ गिरा रहा था लेकिन पुलिस निरीक्षक ने उसे ऐसा करने से रोका तो उसने अधिकारी पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। इससे पहले पुलिस ने 27 दिसंबर को आरोपी प्रशांत नट को गिरफ्तार किया था। उसने कुल्हाड़ी से हमले के बाद सुबोध कुमार सिंह की कथित रूप से गोली मारकर हत्या कर दी थी। भीड़ की हिंसा और गो हत्या के मामले में 18 दिसंबर को 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। बता दें कि जिले के महवा गांव के पास एक खेत में गाय का शव मिलने के बाद हिंसा भड़क गई थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *