BCCI ने दी उत्तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन को मान्यता , खिलाड़ियों के लिए खुशखबरी

BCCI recognizes Uttarakhand Cricket Association, good news for players

उत्तराखंड के खिलाड़ि‍यों के लिए बस्सी की और से बड़ी खुशखबरी है। राज्य के खिलाडियों को लंबे इंतजार के बाद अब क्रिकेट खेलने के लिए अन्य राज्यों की ओर रुख नहीं करना पड़ेगा। सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के प्रबंधन को गठित समिति ने प्रदेश के खिलाड़ि‍यों को वर्ष 2018-19 के घरेलू सीजन में खेलने के लिए मान्यता प्रदान कर दी है।

बता दे की उत्तराखंड के क्रिकेट एसोसिएशन की मान्यता का मामला लम्बे समय से अटका हुआ था। पत्रकारों से बातचीत के दौरान प्रदेश के खेल मंत्री अरविंद पांडेय ने बताया कि सरकार व खेल विभाग के प्रयास से अब प्रदेश के प्रतिभाशाली खिलाडिय़ों को घरेलू क्रिकेट में खेलने का मौका मिलेगा। बीसीसीआइ ने खिलाडिय़ों के हित को देखते हुए उत्तराखंड की टीम को घरेलू सीजन में खेलने के लिए अनुमति प्रदान कर दी है। हालांकि, यह मान्यता किसी एक एसोसिएशन को न देकर इसके लिए सभी एसोसिएशनों की सहमति से एक नौ सदस्यीय कंसेंसस कमेटी का गठन किया गया है। इसमें मान्यता का दावा करने वाली प्रदेश की चारों क्रिकेट एसोसिएशन के छह सदस्यों के अलावा बीसीसीआइ के दो सदस्य व एक सदस्य राज्य सरकार का होगा। बीसीसीआइ का नामित प्रतिनिधि ही इसका संयोजक होगा। यही कमेटी प्रदेश में क्रिकेट गतिविधियों का संचालन करेगी।
यह भी पढ़े :BCCI सख्त, अब क्रिकेटरों की बीवियों और गर्लफ्रेंड्स की नहीं लेगा जिम्मेदारी
उम्मीद जताई जा रही है की जल्द ही उत्तराखंड को रणजी मैच मिलने की भी संभावना है। बता दे की प्रदेश में बनने वाली कंसेंसस कमेटी में बीसीसीआइ के दो सदस्य होंगे जिनमे से एक सदस्य वित्तीय पृष्ठभूमि और एक सदस्य क्रिकेट प्रबंधन से जुड़ा होगा। समिति में उत्तरांचल क्रिकेट एसोसिएशन से दो सदस्य होंगे ,वहीं दो सदस्य क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के सम्मिलित किए जाएगे। यूनाइटेड क्रिकेट एसोसिएशन का एक सदस्य तथा उत्तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन का एक सदस्य समिति में शामिल होंगे। बताते चले की सभी एसोसिएशन अपने सदस्यों के नाम स्वयं तय करेंगी। इस मौके पर सचिव खेल भूपेंद्र कौर औलख और निदेशक विम्मी सचदेवा समेत खेल विभाग के अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *