सावधान : उत्तराखंड में चढ़ी धूल की परत, अगले 24 घंटे में 100 किमी की रफ्तार से आ सकता है अंधड़

Be careful: the layer of dust climbed in Uttarakhand

उत्तराखंड में बुधवार से देहरादून समेत आसपास के इलाकों में शाम होते ही वातावरण पर धूल की परत चढ़ गई। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार हवा के कम दबाव और तापमान अधिक होने के कारण धूल के कण ऊपर उठ गए हैं, जिसके कारण यह स्थिति बन गई है। वहीं तापमान अधिक होने और उमस के कारण अगले 24 से 36 घंटे में आंधी की चेतावनी भी जारी की गई है, जिससे पहले धूल का गुबार बन रहा है।

पूरे उत्तर भारत में धूल भरी आंधी चल रही
राज्य मौसम विज्ञान केंद्र ने चेतावनी जारी की है कि उत्तराखंड में तेज हवाएं और अंधड़ पांच जिलों को अपनी चपेट में ले सकता है। 24 घंटे के भीतर देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर जिलों में तेज अंधड़ और झक्कड़ आ सकता है। जिसकी अधिकतम गति 100 किलोमीटर प्रति घंटे भी हो सकती है। विभाग ने संभावित नुकसान की आशंका जताते हुए एहतियात बरतने की सलाह दी है। वहीं दून में भी धूल का गुबार नजर आया। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि पूरे उत्तर भारत में धूल भरी आंधी चल रही है। ऊपर उठी धूल हवा के संपर्क में आने के कारण फैलती जा रही है। बताया कि धूल की परत के कारण सामान्य से अधिक गर्मी महसूस की गई। बता दे की कलसे ही राजधानी देहरादून और आस पास के क्षेत्रों में बादलों में पीलापन देखा जा रहा है जिसे कोई समझ नहीं पा रहा था की यह क्या हो रहा है।

यह धूल स्वास्थ्य के लिए है हानिकारक , हो सकते है यह रोग , करे बचाव

राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार यह धूल का गुबार हवा के कम दबाव के कारण उठा। वहीं तापमान अधिक होने और उमस के बाद आंधी की आशंका बन रही है। जिससे पहले धूल का गुबार बन रहा है और यह गुबार स्वास्थ्य के लिए हनुकारक बताया जा रहा है। विशेषज्ञ की माने तो इससे अस्थमा, टीबी, दिल की बीमारी, रक्तचाप, सिरदर्द और चक्कर आना, चर्म रोग, अपच और गैस की बीमारी, आंखों में जलन जैसी बीमारियां हो सकती है। जिसके लिए बचाव की आवश्यता है। विशषज्ञों ने मास्क लगाकर घर से बाहर निकलने की राय दी है। उनका कहना है की एन 52 या आम मास्क का उपयोग करे। घर से बाहर निकलते समय मास्क न हो तो मुंह पर कपड़ा भी लपेटकर जा सकते हैं। बाइक चालक हेलमेट जरूर लगाएं और कार चालक शीशा बंद रखें। मास्क का उपयोग करें। एन 52 या आम मास्क हो तो उसे पहनें।

यह भी पढ़े :उत्तराखंड में अतिवृष्टि ने मचाई तबाही, आकाशीय बिजली गिरने से एक की मौत

उत्तराखंड के चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के अलावा हेमकुंड साहिब की यात्रा सुचारू है। पर्वतीय क्षेत्रों में कहीं हल्के बादल तो कहीं धूप खिली है। देहरादून पर धूल की परत चढ़ी है। बताया कि उत्तराखंड के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। वहीं मैदानी क्षेत्रों में झुलसाने वाली गर्मी से लोग बेहाल रहे। ऊधमसिंह नगर, रुड़की, हरिद्वार, कोटद्वार और देहरादून में सुबह से ही चटख धूप खिलने से दिन का तापमान काफी अधिक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *