बीमा पॉलिसी के नाम पर ठगी करने वाले अन्तराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश, 7 गिरफ्तार

Busted international gang cheating on the name of insurance policy

देहरादून पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने विभिन्न बीमा पॉलिसी के नाम पर ठगी करने वाले अन्तराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश करते हुए सात लोगो को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से 8 मोबाईल, 8 डेबिट कार्ड , 4 क्रेडिट कार्ड, और नगद राशि, कार आदि बरामद की गई । बताया जा रहा है कि सभी आरोपी पूर्व में काॅल सेण्टरो मे कार्यरत रह चुके है। आरोपियों को सीधे साधे ग्राहको को झांसा देकर ठगने का अनुभव है।

बताया जा रहा है कि रानीपोखरी निवासी अनिल सिन्घवाल पुत्र ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय देहरादून को शिकायती प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया कि मुझे वर्ष 2014 से अलग अलग नाम व फोन नम्बरो से काल करके बताया गया कि आपकी बीमा पॉलिसी मुचुअल हो गयी है। आप की पॉलिसी का पैमेट रूका हुआ है बार बार अलग अलग एकाउंट में अलग अलग धनराशि जमा करने हेतु बताया गया मेरे द्वारा लगभग 10 लाख रूपये जमा कर दिया गया है। परन्तु मुझे आज तक पॉलिसी का भुगतान नही हुआ है। मुझे कुल अब पता लगा कि मेरे साथ धोखा हो रहा है। तो मैने पॉलिसी पैमेन्ट के नाम पर पैसा जमा करना बन्द कर दिया । अभी कुछ दिन पहले मुझे लगातार फिर से काल आ रही है। और बताया जा रहा है कि आप की पालिसी का भुगतान होना है तथा एकाउंट नं0 बताकर 30 हजार रूपये डालने के लिये बोला जा रहा है।

ऐसे हुआ भंडाफोड़

इसकी सूचना मेरे द्वारा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय को दी गई। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा थानाध्यक्ष रानीपोखरी का तत्काल अभियोग पंजीकृत कर घटना का शीघ्र अनावरण हेतु कहा गया। थाना रानीपोखरी में अभियोग पंजीकृत कर इसकी विवेचना उ0नि0 दीपक रावत के सुपुर्द की गई। विवेचक द्वारा लाभप्रद सूचना प्राप्त करते हुये संज्ञान में लाया कि जिस एकाउण्ट में पैसे डालने का कहा जा रहा है वह एक कविता नामक महिला का खाता है जिस सत्यापित किया जाना आवश्यक है। सत्यापित किये जाने के बाद ही विवेचना में अग्रिम साक्ष्य संकलन एवं अनावरण की कार्यवाही की जा सकती है। इस पर थानाध्यक्ष रानीपोखरी द्वारा तत्काल उच्चाधिकारी गणो से अनुमति प्राप्त कर खाते धारक के पते पर एक टीम रवाना की गई। साक्ष्य संकलन के पश्चात प्रकाश में आया कि बीमा ठगी के नाम पर कई गिरोह गाजियाबाद नोयडा दिल्ली में सक्रिय है उन्ही में से एक गिरोह यह भी है। इसमे काफी लोग जुडे हुये है। खाता धारक का पता तस्दीक करने के पश्चात विवेचना के बाद प्रकाश में आया कि उक्त खाता धारक कविता के नाम से खोला गया है जो एक घरेलु महिला है उसके पति महेश लाल पुत्र विजय लाल नि0 फटगली पो0 बमराडी जिला बागेष्वर हाल पता सेक्टर 51 होषियारपुर नोयडा जिला गौतम बुद्व नगर उ0प्र0 होना पाया गया सुरागरसी पतारसी से ज्ञात हुआ कि आरोपी नोयडा न हो कर मूल पते पर जा रखा है जिसकी गिरफ्तारी हेतु वरिष्ठ पलिस अधीक्षक महोदय द्वारा थानाध्यक्ष रानीपोखरी को निर्देषित किया गया। आरोपी महेष लाल 1.1.19 को अल्मोडा से गिरफ्तार किया गया जो वर्तमान में न्यायालय की न्यायीक अभिरक्षा में है।

अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा पुलिस अधीक्षक ग्रामीण महोदय को षीघ्र ही टीम गठीत कर अभियुक्त की गिरफ्तारी एवं अपराध क अनावारण करने के आदेष दिये गये। फलस्वरूप पुलिस अधीक्षक ग्रामीण महोदय द्वारा क्षेत्राधिकारी ऋषिकेष महोदय को टीम गठित कर उच्चाधिकारीगणो से नियुमानुसार अनुुमति प्राप्त कर दिल्ली, गाजियाबाद, नोयडा दिल्ली एनसीआर, में तत्काल टीम रवाना करने क निर्देष दिये गये। फलस्वरूप थानाध्यक्ष पी0डी0 भट्ट थाना रानीपोखरी के नेतृत्व टीम गठित कर रवाना किया गया। दिनांक 6.1.18 को टीम द्वारा संयुक्त रूप से ठगी करने वाले गिरोह के पर्दाफाश करते हुये गिरोह के अन्य 07 सदस्यो को सेक्टर 71 नोयडा से गिरफ्तार किया गया।

अपराध करने का तरीका:

आरोपी सुधीर गुप्ता एवं अक्षय गुप्ता जो रिश्ते में मामा भन्जे लगते है। सज्जन व निर्धन लोगो को रूपयो का प्रलोभन देकर उनके खाते खुलवाकर बैक किट (पासबुक, डेबिट कार्ड, चैकबुक) हासिल कर अपनी टीम के अन्य सदस्यो को दोगुना लाभ प्राप्त कर उपलब्ध कराते थे। दीपक कुमार, आनन्द पाण्डे व धर्मेन्द्र उपलब्ध डेबिट कार्ड के माघ्यम से रूपये निकाल कर 20 प्रतिषत का लाभ प्राप्त कर अन्य टीम के सदस्य दीपक सिह एवं मोहित को देते थे। दीपक सिह व मोहित अलग अलग मो0 नम्बरो से ग्राहको को प्रलोभन देकर काल करके खातो मे रूपये डलवाने का काम करते थे। बाद में सारी धनराशि का हिसाब इनके द्वारा ही किया जाता था। उपरोक्त संगठित अपराध के ये दोनो ही मास्टर माइंड थे। दीपक सिह एचडीएफसी लाइफ इनष्योरेंस में लिपिक कर्मी है दीपक द्वारा ही कम्पनियो से उपभोगताओ का डाटा चोरी कर अपने साथियों को उपलब्ध कराया जाता था। सभी आरोपी पूर्व में काॅल सेण्टरो मे कार्यरत रह चुके है। आरोपियों को सीधे साधे ग्राहको को झांसा देकर ठगने का अनुभव है।

बरामदगी मालः
01. स्मार्ट सैमसंग – 04,
02. स्मार्ट मोबाईल फोन एप्पल – 02
03. स्मार्ट मोबाईल फोन ज्योनी -02
04. स्मार्ट मोबाईल फोन ओप्पो – 01
05. डेबिट कार्ड – 8
06. क्रेडिट कार्ड – 04
07 पेटीएम कार्ड – 01
08. 17000 रूपये नगद
09. पास बुक पीएनबी बैक – 02
10. पास बुक इण्डियन बैंक -02
11. एक कार -एआई टेन गोल्डन कलर नं0 यूपी 16 एक्स 8087

गिरफ्तार आरोपियों का नाम पता:
1. दीपक सिह पुत्र सुभाष सिह नि0 ग्राम खकुडा तहसील सिकाररपुर जिला बुलंदषहर उ0प्र0 हाल ग्राम कुलेसेरा गौतमबुद्व नगर थाना कुलेसेरा उ0प्र0।
2. धर्मेन्द्र कुमार पुत्र मिठन सिह नि0 ग्राम किनोनी पो0 रसूलपुर जिला मेरठउ0प्र0 हाल आर-सी 283 खोडा कालोनी मन्त्रिका बिहार गाजियाबाद सेक्टर 57।
3. मोहित पुत्र गुलाब सिह नि0 ग्राम भाईपुर तहसील अनूपराहर जिला बुलन्दषहर उ0प्र0 हाल आधापुर सैंक्टर 41 नोयडा थाना 39 नोयडा।
4. आनन्द पाण्डे पुत्र ध्रुव चन्द्र पाण्डे नि0 ग्राम अखबर पुर गोडा उ0प्र0 हाल जगतपुरी ए 49/1 गली नं0 5 जगतपुरी एक्सटेनषन दिल्ली।
5. दीपक कुमार पुत्र विजय सिह नि0 ग्राम इमलोर पो0 सीडीएफ थाना जम्मा जिला अलीगढ उ0प्र0 हाल सेक्टर 41 हंगापुर नियर बाय एमएलबी पब्लिक स्कूल नोयडा।
6. सुधीर गुप्ता पुत्र मुन्ना लाल गुप्ता नि0 ग्राम जलालाबाद पो0 व जिला षहजहाॅपुर उ0प्र0 हाल लक्ष्मी नगर निर्माण विहार दिल्ली।
7. अक्षय कुमार गुप्ता पुत्र सुनील कुमार गुप्ता नि0 कस्बा व थाना कांसगंज जिला कन्नोज उ0प्र0 हाल 41 फ्लैट नं0 403 बिल्डिंग सेण्डल बी सालीमार सिटी गाजियाबाद उ0प्र0।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *