भारत के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा दो दिवसीय संगोष्ठी पर पहुंचेंगे ऋषिकेश

Chief Justice of India Deepak Mishra will attend a two-day seminar on Rishikesh

प्रशांती निलायम 11 अगस्त और 12 अगस्त को श्री सत्य साई सेवा संगठनों द्वारा आयोजित महासम्मेलन आयोजित करने जा रहा है। इस सम्मेलन का विषय‘मानव मूल्य और कानूनी दुनिया’ है। जिसमें न्यायविदों, न्यायाधीशें, कानून के दिग्गज आयेंगे। आयोजन का मकसद विचारों और सुझावाओं को पैदा करना है। आयोजन के लिये देश भर से बार, बेंच और अकादमिक के लिए दो दिवसीय संगोष्ठी में भाग लेने का निमंत्रण है। इस कारण को बढ़ाने और मानव अधिकारों और मूल्यों के महत्व को उजागर करने के लिए, भारत के मुख्य न्यायाधीश, माननीय न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा स्वयं उद्घाटन समारोह में लोगों को संबोधित कर रहे हैं।

माननीय न्यायमूर्ति  एस जे मुखोपाध्याय, अध्यक्ष, एनसीएलएटी और पूर्व न्यायाधीश, भारत के सुप्रीम कोर्ट के साथ-साथ भारत के विभिन्न उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों के साथ संवैधानिक अधिकारों और मानव मूल्यों पर विचार-विमर्श करेंगे। वहीं, मानव मूल्यों को आगे बढ़ाने में न्यायपालिका की भूमिका पर वार्ता माननीय न्यायमूर्ति एन.वी. रामान, न्यायाधीश, भारत के सुप्रीम कोर्ट और माननीय न्यायमूर्ति अमितव राय, पूर्व न्यायाधीश, भारत के सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी जाएगी। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश माननीय न्यायमूर्ति टीबी राधाकृष्णन कानूनी पेशे में नैतिकता और संभाव्यता पर एक सत्र की अध्यक्षता करेंगे। मुख्य न्यायाधीश राधाकृष्णन की अध्यक्षता में पैनल में भारत के विभिन्न उच्च न्यायालयों के बैठे न्यायाधीश होंगे। कार्यक्रम में एम एन आर वेंकटचलिया, भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश और श्री सत्य साई विश्वविद्यालय के पूर्व चांसलर का सम्मान भी शामिल है। वह बार में कई बहुलियों में से हैं और बेंच जो श्री सत्य साईं बाबा, उनके संस्थानों और उनके संदेश से जुड़े हुए हैं।

यह भी पढ़ेंःलग्रों का ‘गुड वाइब्स’ अपने ओरिजिनल वेब सीरीज कंटेंट से आज के युवाओं को करेगा लक्षित

श्री सत्य बाबा ने जोर दिया है कि मानव जाति का उचित अध्ययन मनुष्य है। उनके सिद्धांत पांच ठोस खंभे यानी सत्य, धर्म, प्रेमा, शांति और अहिंसा पर आधारित हैं। उन्होंने मनुष्यों को भगवान के सर्वोच्च सृजन के रूप में माना और मानव मूल्य मनुष्यों का सार हैं और प्रत्येक व्यक्ति को न केवल इस अंतर्निहित दिव्यता को समझने का अवसर होना चाहिए बल्कि मानव उत्कृष्टता का खिलना भी होना चाहिए। भारत के संविधान की प्रस्तावना हर भारतीय को जाति, रंग, पंथ, संप्रदाय और धर्म से परे मानव उत्कृष्टता में उत्कृष्टता प्राप्त करने की गारंटी देती है। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है, जो अपने लोगों के लिए वरदान है और न्यायपालिका मानव मूल्यों का संरक्षक रहा है और न केवल भारत के नागरिकों के संवैधानिक अधिकारों को बनाए रखने और अपने नागरिकों के अधिकारों का विस्तार करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।समय बीतने और बदलते सामाजिक जरूरतों के साथ मानव मूल्यों को कायम रखने में न्यायपालिका की भूमिका पर जोर दिया गया और भारत के संविधान में स्थापित सिद्धांतों और मूल्यों को मजबूत करने की मूल जिम्मेदारी जरूरी है। यह सम्मेलन इस दुनिया में मानवाधिकारों और मूल्यों को बनाए रखने की उम्मीद जताई जायेगी।

श्री सत्य साई सेवा संगठनों के बारे में

श्री सत्य साई सेवा संगठन, भारत और सत्य साई इंटरनेशनल आर्गेनाइजेशन,  भगवान श्री साईं बाबा, प्रशांत निलायम, पुट्टपर्थी, आंध्र प्रदेश के दिव्य दिशानिर्देशों पर चलते हैं। श्री सत्य साई सेवा संगठन,  भारत के 20 राज्यों में समाज की सेवा में शामिल है जिसमें 8 लाख से अधिक स्वयंसेवक व्यक्तिगत और सामाजिक विकास के लिए निःस्वार्थ रूप से काम कर रहे हैं। पांच महाद्वीपों में120 से अधिक देशों में सत्य साई अंतर्राष्ट्रीय संगठन (एसएसआईओ) शामिल है। सत्य साई सेवा संगठनों का मुख्य ध्यान शिक्षा व्यवस्था, हेल्थकेयर, सोसायटीकेयर, एक्वाकेयर और इकोकेयर पर ध्यान देना है।,  देश में लाखों लोगों को मुफ्त पेयजल आपूर्ति करना, साथ ही कला प्रौद्योगिकी की स्थिति के साथ मुफ्त चिकित्सा सुविधाएं जो दुनिया में सर्वश्रेष्ठ से मेल खाती हैं और प्रशांती निलायम में केजी से पीजी तक मूल्य आधारित शिक्षा दी जाती है। सत्य साई संगठनों की सभी गतिविधियां बिल्कुल मुफ्त हैं। सभी गतिविधियों का बाध्यकारी बल शुद्ध प्रेम है जो भगवान श्री साईं बाबा के सिद्धांत और शक्तिशाली मंत्र पर आधारित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *