क्रिकेटर मोहम्‍मद शमी से पुलिस ने की तीन घंटे पूछताछ ,आईपीएल टीम में जुड़ने की मिली इजाज़त

Cricketer Mohammed Shami questions police three hours

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को कोलकाता पुलिस से उस समय अस्थायी राहत मिली जब उन्हें तीन घंटे की पूछताछ के बाद इंडियन प्रीमियर लीग में उनकी फ्रेंचाइजी दिल्ली डेयरडेविल्स से जुड़ने की अनुमति दी गई। बता दे की क्रिकेटर मोहम्मद शमी से कोलकाता पुलिस ने बुधवार (18 अप्रैल) को पुलिस मुख्यालय में तीन घंटे से ज्यादा समय तक पूछताछ की। शमी के भाई हसीब अहमद से भी पूछताछ की गई। शमी की पत्नी हसीन जहां ने क्रिकेटर पर घरेलू हिंसा और जान से मारने की कोशिश करने जैसे संगीन आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई है।इसी सिलसिले में पुलिस ने उन्हें तलब किया था।

मोहम्मद शमी आईपीएल 2018 में दिल्ली की तरफ से खेल रहे हैं। शमी ने आईपीएल में बिजी होने की वजह से पुलिस के सामने पेश होने में असमर्थतता जताई थी। शमी ने अपने वकील के जरिए लाल बाजार पुलिस को चिट्ठी भिजवाई थी, जिसमें लिखा था कि आईपीएल खत्म होने के बाद वह पुलिस की जांच का हिस्सा भी बनेंगे और पूरी तरह उसमें सहयोग भी करेंगे। लेकिन इसके बाद शमी को स्थानीय पुलिस द्वारा समन भेजे जाने के कारण कोलकाता में ही रुकना पड़ा था। शमी कोलकाता में  इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में दिल्ली डेयरडेविल्स की तरफ से कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ मैच खेलने आए थे। पुलिस द्वारा समन भेजे जाने पर उन्हें यहीं रुकना पड़ा जबकि उनकी टीम अगले मैच के लिए बेंगलुरु रवाना हो गई थी।पूछताछ के बाद पुलिस ने उन्हें फिर से आईपीएल टीम दिल्ली डेयरडेविल्स से जुड़ने के लिए अपनी मंजूरी दे दी। पुलिस उपायुक्त प्रवीन त्रिपाठी ने संवाददाताओं से कहा, “शमी के आईपीएल टीम से जुड़ने से हमें कोई आपत्ति नहीं है।यदि जरूरत पड़ी तो उन्हें फिर से पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा। हम उन्हें किसी भी समय बुला सकते हैं, लेकिन इस समय हमें इसकी आवश्यकता नहीं है। वे मामले में सहयोग कर रहे हैं।”

यह भी पढ़े :मोहम्मद शमी की पत्नी ने लगाया उन पर घिनौना आरोप , चैट के स्क्रीन शॉट्स किए शेयर

हसीन जहां का आरोप है कि शमी ने उन्हें भाई हसीब अहमद के साथ शारीरिक संबंध बनाने को कहा था। हसीब को भी आरोपी बनाया गया है। इसलिए पुलिस ने उन्हें भी तलब किया था। हसीब भाई शमी से तकरीबन दो घंटे पहले ही पुलिस मुख्यायल पहुंच गए थे, लेकिन दोनों साथ ही बाहर निकले थे। प्रवीण त्रिपाठी ने बताया कि शमी और हसीब से अलग-अलग और साथ में पूछताछ की गई। क्रिकेटर शमी से पुलिस मुख्यालय में पूछताछ की खबर के बाद वहां मीडियाकर्मियों का हुजूम लग गया था। इसलिए पूछताछ के बाद उन्हें बाहर के बजाय मुख्यालय में अंदर जाने वाले गेट से पुलिस सुरक्षा में बाहर निकाला गया था। पुलिस ने पत्रकारों को बाहर जाने वाले गेट पर इंतजार करने को कहा गया था। वहां पुलिस सुरक्षा भी बढ़ा दी गई। इस बाबत पूछे जाने पर जेसीपी त्रिपाठी ने शमी को पुलिस सुरक्षा में बाहर निकालने की जानकारी होने से इनकार किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *