शिव के जयकारों से गूंज रहे शिवालय, उमड़ी भीड़

सावन के पहले सोमवार को मंदिरों में श्रद्धालुओं और कावड़ियों  की उमड़ी भारी भीड़। हर-हर महादेव के जयकारों से गुंजे शिवालय। शिव आस्था के प्रमुख केंद्रों पर रविवार को ही देश-दुनिया से भक्तों का जुटना प्रारंभ हो गया था। नीलकंठ महादेव, बाबा बैद्यनाथ, काशी विश्वनाथ, अमरनाथ, केदारनाथ, महाकाल और ओंकारेश्वर सहित देशभर में शिवालयों की रौनक देखते जारी है।

इस खबर को पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

ईश्वर का अस्तित्व  https://www.uttaravani.com/story-of-a-man-and-a-barber/

पहले सोमवार को उमड़ने वाली भीड़ को देखते हुए मंदिरों में पूरी तैयारियां हैं। आज पहले सोमवार के दिन द्रोणनगरी के प्राचीन टपकेश्वर मंदिर सहित सभी शिवालयों में विशेष पूजा अर्चना की गई।

इस बार सावन में कुल चार सोमवार आ रहे हैं। जो 22 जुलाई, 29 जुलाई, 05 अगस्त और 12 अगस्त को हैं।

देश-विदेश के कोने-कोने से देवघर, झारखंड में बाबा बैद्यनाथ का जलाभिषेक करने के लिए लाखों शिवभक्त जुट गए हैं। शिवभक्तों के स्वागत में बाबा नगरी पूरी तरह से तैयार है। उम्मीद है कि आज सवा लाख से अधिक भक्तों को बाबा की पूजा-अर्चना करने का सौभाग्य मिलेगा।

परंपरानुसार सावन के हर सोमवार और भादौ मास के दो सोमवार को राजाधिराज भगवान शिव पालकी में सवार होकर प्रजाजनों का हाल जानने निकलते हैं। इस साल श्रावण मास की पहली सवारी आज शाम चार बजे निकलेगी।

वहीं, समुद्र तल से 3,888 मीटर ऊंचाई पर स्थित बाबा बर्फानी की पवित्र गुफा में हिमलिंग के दर्शनों के लिए हर कोई लालायित रहता है तथा अमरनाथ यात्रा हो और सावन का पहला सोमवार तो बहुत कम श्रद्धालुओं को दर्शनों का सौभाग्य मिलता है।

इस खबर को पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

ईश्वर का अस्तित्व  https://www.uttaravani.com/story-of-a-man-and-a-barber/

वहीं, केदारनाथ मंदिर में सावन के पहले सोमवार पर विशेष दर्शनों को भक्तों का जुटना पहले ही शुरू हो चुका था। श्रावण मास में भोले के भक्त उच्च हिमालय क्षेत्र में पाए जाने वाले ब्रह्मकमल फूल लाकर चढ़ाते हैं। तथा, पौड़ी जिले के यमकेश्र्वर प्रखंड में मणिकूट पर्वत की तलहटी पर स्थित नीलकंठ महादेव मंदिर स्थित है। श्रावण मास की कावड़ यात्रा में यहां प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। इस वर्ष भी कावड़ यात्रा को लेकर विशेष तैयारियां की गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *