फिल्म केदारनाथ की रिलीज पर हाई कोर्ट ने रोक लगाने से किया इनकार

High Court refuses to ban Kedarnath's release

फिल्म केदारनाथ के निर्माता ,निर्देशक को बड़ी राहत मिली है। हाईकोर्ट ने फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। साथ ही  याचिका भी खारिज कर दी है। कोर्ट ने याचिकाकर्ता को फिल्म के खिलाफ डीएम रुद्रप्रयाग को प्रत्यावेदन देने को कहा है। बता दें कि हिन्दू संगठन भी फिल्म के विरोधी है।

उत्तराखण्ड की संस्कृति और परंपराओं को ताक पर रखकर बनी फिल्म केदारनाथ की रिलीज पर उठे विवाद के बीच गढ़वाल के स्वामी दर्शन भारती की ओर से उच्च न्यायालय में याचिका दायर की गई थी। गुरूवार को  मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रमेश रंगनाथन की एकलपीठ पर याचिका की सुनवाई हुई। कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए फिल्म पर रोक लगाने से इंकार कर दिया है। कोर्ट के फैसले से हिंदू संगठनों व तीर्थ पुरोहितों की कोशिशों को झटका लगा है।बता दें कि याचिका में कहा गया था कि यह फिल्म निर्माता ने केदारनाथ की आपदा को लव जिहाद से जोड़कर आस्था और विश्वास पर कुठाराघात किया है।  फिल्म लव जिहाद को बढ़ावा देती है। फिल्म में दिखाया गया है कि केदारनाथ में सैकड़ों वर्षों से मुस्लिम समाज के लोग रहते हैं जबकि वहां एक भी मुस्लिम या इस्लामिक परिवार नहीं रहता है।

सरकार ने बनाई कमेटी

बता दें कि फिल्म को लेकर हिंदू संगठनों व तीर्थ पुरोहितों की आपत्ति को देखते हुए राज्य सरकार ने पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज जी के नेतृत्व में कमेटी बनाई गई है। जिसमें गृह सचिव नितेश कुमार झा, सचिव पर्यटन व सूचना दिलीप जावलकर, डीजीपी अनिल रतूड़ी सदस्य हैं । समिति केदारनाथ फिल्म को लेकर की जा रही आपत्तियों का परीक्षण कर रिपोर्ट देगी। इसी रिपोर्ट के आधार पर राज्य सरकार द्वारा फिल्म के प्रदर्शन के संबंध में समुचित निर्णय लिया जाएगा।

यह भी पढेः रजनीकांत-अक्षय की फिल्म 2.0 ने रिलीज से पहले की 370 करोड़ की कमाई,’बाहुबली-2′ को छोड़ा पीछे

राजनीतिक दलों ने भी खोला मोर्चा 

गौरतलब है कि पांच साल पहले केदारनाथ में हुई तबाही पर बनाई गई फ़िल्म केदारनाथ के रिलीज़ होने से पहले ही उस पर विवाद शुरू हो गया। फिल्म में हिन्दुओं की भावनाओं को ठेस पहँचाने का आरोप लगाते हुए उसके खिलाफ़ राजनीतिक दलों ने भी मोर्चा खोल दिया। और फिल्म पर बैन लगाने की माँग की। BJP नेता अजेन्द्र अजय ने फिल्म की कहानी पर ऐतराज़ जताते हुए सेंसर बोर्ड को एक लेटर लिखा। जिसमें उन्होंने फिल्म के ज़रिये ‘लव जेहाद’ को बढ़ावा देने का आरोप लगाया। वहीं कांग्रेस ने भी फिल्म केदारनाथ पर आपत्ति जताई और उसके टीज़र में दिखाए गए कुछ सीन पर नाराज़गी ज़ाहिर की।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *