जोखा अल हार्थी को मैन बुकर लिटरेचर अवार्ड ओमान की लेखिका !

ओमान की लेखिका जोखा अल-हार्थी को सेलेस्टियल बाडीज किताब के लिए 2019 का मैन बुकर इंटरनेशनल अवार्ड दिया गया। जोखा अरब जगत की पहली लेखिका हैं जिन्हें साहित्य जगत का यह प्रतिष्ठित पुरस्कार मिला। उन्हें 64 हजार डालर (करीब 44 लाख रुपये) की इनामी राशि अमेरिकी मार्लिन बूथ के साथ साझा करनी होगी क्योंकि मार्लिन ने उनकी किताब का अंग्रेजी में अनुवाद किया था।booker award के लिए इमेज परिणाम
यह किताब सेलेस्टियल बाडीज ओमान के अल-अवाफी गांव में रहने वाली तीन बहनों के जरिये वहां उपनिवेशवाद के बाद खत्म हो रहे बदलाव की कहानी है।

लंदन के राउंडहाउस में पुरस्कार समारोह में जोखा ने कहा, मैं बहुत खुश हूं कि अब अरब की सभ्यता और संस्कृति के लिए भी साहित्य जगत के दरवाजे खुल गए हैं। मुझे उम्मीद है कि दुनियाभर के पाठक इस उपन्यास से खुद को जोड़ पाएंगे। मस्कट की सुल्तान काबुस यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर जोखा ने इडेनबर्ग यूनिवर्सिटी से अरबी काव्य की पढ़ाई की है। वह अरबी भाषा में तीन उपन्यास, बच्चों की एक किताब और दो लघु कहानी संग्रह लिख चुकी हैं।

मैन बुकर इंटरनेशनल अवार्ड में इस साल के लिए जोखा समेत पांच लेखिकाएं और कोलंबिया के उपन्यासकार जुआन गर्बियल नामित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *