PNB महाघोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी ने छोड़ी भारतीय नागरिकता, भारत लाना अब और मुश्‍किल

पीएनबी घोटाले के भगोड़े आरोपी मेहुल चौकसी ने भारतीय नागरिकता छोड़ दी है। उसने एंटीगुआ में भारतीय पासपोर्ट सरेंडर कर दिया। मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है। चौकसी ने वहां स्थित भारतीय उच्चायोग में 177 डॉलर की राशि भी जमा करवाई है। ऐसा माना जा रहा है कि चौकसी ने भारत प्रत्यर्पण से बचने की कोशिश में नागरिकता छोड़ी है। जिससे चोकसी को भारत लाना अब और मुश्‍किल हो सकता है।

पंजाब नेशनल बैंक में हुए 12 हजार 700 करोड़ रुपये के कथित लोन फ्रॉड मामले के आरोपी हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी ने भारतीय नागरिकता छोड़ते हुए अपना भारतीय पासपोर्ट एंटीगुआ हाईकमीशन में जमा कर दिया है। चोकसी के प्रत्यर्पण में जुटी सरकार के लिए यह झटका माना जा रहा है। बता दें कि पिछली सुनवाई में चोकी ने कोर्ट में पिछली सुनवाई में अपने स्वास्थ्य का हवाला देते हुए कहा था कि फ्लाइट में 41 घंटे का सफर करके भारत नहीं आ सकता है। चोकसी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित कराने के लिए प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट (PMLA) स्पेशल कोर्ट में एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) द्वारा दायर याचिका के जवाब यह बात कही थी। चोकसी ने भारतीय उच्चायोग से कहा कि उसने नियमों के तहत एंटीगुआ की नागरिकता लेते हुए भारत की नागरिकता छोड़ दी है।चोकसी ने साल 2017 में ही एंटीगुआ की नागरिकता ली थी। मुंबई पुलिस की हरी झंडी के बाद चोकसी को नागरिकता मिली थी।

यह भी पढ़ेंः PNB महाघोटाले का आरोपी नीरव मोदी निकला डॉन से भी आगे , 192 देशों की पुलिस को है तलाश

विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव अमित नारंग ने गृह मंत्रालय को जानकारी देते हुए बताया है कि मेहुल चोकसी ने भारतीय नागरिका छोड़ने के लिए जो फॉर्म भरा है, उसमें अपना नया पता जौली हार्बर सेंटर मार्कस एंटीगुआ लिखा है। वहीं दूसरी और जानकारो के मुताबिक ‘मेहुल चोकसी ने अपराध भारत में किया है और प्रत्यर्पण की प्रक्रिया का आरोपी की नागरिकता से कोई संबंध नहीं है। एक आरोपी होने के नाते मेहुल चोकसी का प्रत्यर्पण किया जा सकता है, नागरिकता चाहे कहीं की भी क्यों न हो। अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक किसी भी देश के, किसी भी आरोपी को, किसी भी देश में प्रत्यर्पित किया जा सकता है. मेहुल चोकसी के मामले में भी यह लागू होगा।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *