अंधविश्वास का शिकार हुई मासूम,मां ने अपने हाथों से काटी नवजात बेटी के हाथ-पैर की अंगुली, मौत

अंधविश्वास की एक ऐसी खौफनाक घटना सामने आई है जिसने हर दिल को झिंगोड़ कर रख दिया है। एक मां ने अंधविश्वास के चलते अपनी मासूम बेटी के पैदा होते ही हाथ-पैर की उंगलियां काट दी। ऐसा करते हुए उसका दिल नहीं पसीजा। इंफेक्शन होने से नवजात ने 6 घंटे में ही दम तोड़ दिया। घटना की जानकारी स्वास्थ्य अमले को दो दिन बाद लगी।

जानकारी के अनुसार घटना  मध्यप्रदेश के खंडवा आदिवासी ब्लॉक खालवा के ग्राम सुंदरदेव की है। गांव के एक व्यक्ति रामदेव की पत्नी ने  बेटी को जन्म दिया। उसके हाथ और पैरों में छह-छह उंगलियां देख प्रसूता को अशुभ होने का अंदेशा हुआ। उसने बिना किसी को कुछ बताए हंसिये से हाथ-पैरों से एक-एक उंगली काट दी। जिसके बाद सुबह नवजात की मौत हो गई। घटना के दो दिन बाद  ग्रामीणों के बीच चर्चा गांव से बाहर निकलकर स्वास्थ्य प्रशासन तक पहुंची तो बीएमओ हरकत में आए। सुंदरदेव पहुंचकर रामदेव की पत्नी से चर्चा की। उसने छठी अंगुली को अशुभ बताते हुए काटना स्वीकार किया। बीएमओ ने घटना के लिए जिम्मेदार मानते हुए सुपरवाइजर, एएनएम, आशा कार्यकर्ता व सहयोगिनी को नोटिस जारी कर दिए। बताया जा रहा है की खालवा ब्लॉक के कई गांव जंगल में बसे हैं। यहां मोबाइल नेटवर्क की सुविधा नहीं है। लोग जननी एक्सप्रेस या 108 को सूचना नहीं दे पाते। अंधविश्वास के चलते आदिवासी अस्पताल में प्रसव कराने से कतराते हैं।

यह भी पढ़ेंः दूनिया के हालात बद्दतर, रोटी के लिए हुआ खुनी संर्घष,19 लोगों की मौत, 219 लोग घायल

देश में अंधविश्वास जानलेवा बनता जा रहा है।कुछ समय पूर्व तेलंगाना के हैदराबाद में एक शख़्स ने एक बच्चे की बलि दे दी। इस घटना ने पूरे समाज को सकते में डाल दिया है। एक तांत्रिक के कहने पर उस शख़्स ने चंद्र ग्रहण के दिन पूजा की और बच्चे को छत से फेंक दिया। तांत्रिक ने उसे कहा था कि ऐसा करने से उसकी पत्नी की लंबे समय से चली आ रही बीमारी ठीक हो जाएगी। तेलंगाना पुलिस बच्चे के शव की तलाश कर रही है।अंधविश्वास के जाल की ऐसी कई खौफनाक घटनाए देश में समय-समय पर सामने आती रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *