हनुमान जी की इस तरह करे पूजा उपासना, होंगे सारे कष्ट दूर

मंगलवार को ऐसे करें हनुमान जी की उपासना सारे कष्ट होंगे दूर

नई दिल्ली। हिन्दू धर्म में मंगलवार का बड़ा महत्व है। मंगलवार को हनुमान जी का वार माना जाता है। मंगलवार के दिन लोग सच्चे मन से हनुमान जी की उपासना करते हैं। इस दिन हनुमान जी पूजन से न केवल प्रसन्न होते हैंं अपितु कुंडली में खराब चल रहे सभी ग्रहों के प्रभाव को भी शुभ कर देते हैं क्योंकि हनुमान जी को मंगल ग्रह का नियंत्रक कहा गया है। अगर प्रत्येक मंगलवार को हनुमान जी का विधि-वत पूजन किया जाए तो व्यक्ति को अपने समस्त दुखों और संकट से निजात मिल सकती है। मंगलवार के दिन मंदिरों में लोगों का तांता लगा रहता है और श्रद्धालु हनुमान जी से सारे कष्टों से उबारने की मन्नत मांगते हैं। वहीं परिवार सहित मंदिर में जाकर मंगलकारी सुंदरकांड पाठ करने से भी सभी संकट दूर हो जाते हैं और सभी बुरी शक्तियां दूर भाग जाती हैं।

बिगड़े काम बनाते हैं हनुमान जी

वैदिक काल से हनुमान जी की पूजा- अर्चना का बड़ा महत्व है। माना जाता है कि हनुमान जी सारे कष्टों को दूर करते हैं। मंगलवार के दिन हनुमान जी की प्रतिमा के समक्ष बैठ राम नाम का 108 बार जाप करें क्योंकि हनुमान जी रामजी के अनन्य भक्त हैं। इसलिए जो भी श्रीराम की भक्ति करता है। हनुमान जी उससे प्रसन्न हो उसकी हर मनोकामना पूरी करते हैं। इस दिन मंदिर में हनुमान जी के सामने सरसों के तोल का दिया जलाएं और चालीसा का पाठ करें। इस दिन सुबह स्नान आदि बड़ के पेड़ के एक पत्ते को तोड़कर उसको गंगा जल से धो कर हनुमान जी को अर्पित करें। मंगलवार को शाम के समय हनुमान जो को केवड़े का इत्र एवं गुलाब की माला चढाएं और कोशिश करें कि स्वयं लाल रंग के वस्त्र पहने। हनुमान जी को प्रसन्न करने का ये सब से सरल उपाय है। मंगलवार के दिन शाम को व्रत करके बूंदी के लड्डू या बूंदी का प्रसाद बांटें। इससे पैसे संबंधी समस्याएं दूर होती है। इस दिन हनुमान जी के पैरों में फिटकरी रखने से बुरे सपनों से पीछा छूट जाता है।हनुमान जी के मंदिर में जा कर रामरक्षास्त्रोत का पाठ करने से सारे बिगड़े काम संवर जाते हैं।

ॐ हं हनुमंतये नम: मंत्र का जप करने से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं।

ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् का रुद्राक्ष की माला से जप करने से भी हनुमान जी बहुत प्रसन्न होते हैं।

संकट कटै मिटै सब पीरा, जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *