देश में ये क्या हो रहा! पांच साल की मासूम से 15 साल के बेटे ने किया रेप,तो पिता देने लगें 500 रूपए

अपनी सस्कृंती और संस्कारों के लिए दूनिया में पहचान रखने वाले भारत में शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। जो न सिर्फ देश को शर्मसार करती है बल्कि देश के भविष्य के लिए सोचने पर मजबूर कर देने वाली है। पंजाब के होशियारपुर में एक 15 साल के किशोर ने पांच साल की मासूम को चॉकलेट देने के बहाने घर में बुलाकर उसके साथ बल्तकार किया। बच्ची की चीखे सुन जब आस-पास के लोग इकट्ठा हुए तो आरोपी के पिता ने 500 रुपए देकर मामले को निपटाने की कोशिश की। इतना ही नहीं मौका देखकर भीड़ को चकमा देकर माता-पिता आरोपी बेटे को लेकर फरार हो गए है। पुलिस उनकी तालाश में जटी है। बच्ची की हालात गंभीर बनी हुई है।

जानकारी के अनुसार मामला होशियारपुर के न्यू फतेहगढ़ मोहल्ले का है। जहां देर रात 15 वर्षीय किशोर ने 5 साल की बच्ची को चॉकलेट का लालच देकर उसे अपने घर बुला लिया। फिर उसके साथ बलात्कार किया। बच्ची की चीख पुकार सुनकर आस-पास के लोग आरोपी के घर के बाहर जमा हो गए। जिससे भीड़ इकट्ठा होती देख आरोपी किशोर घबरा गया और बच्ची को घर के बाहर फेंक दिया और तेज धारदार हथियार दिखाकर वहां से भागने लगा। लेकिन मौके पर मौजूद लोगों ने आरोपी को पकड़ा और उसकी जमकर धुनाई की।लेकिन इसके बावजूद आरोपी भीड़ के हाथों से छूटकर भागने में कामयाब हो गया। जिसके बाद लोगों ने पुलिस को मामले की जानकारी देते हुए गंभीर हालात में मासूम को अस्पताल में भर्ती कराया है।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंडः खाई में गिरा ट्रैक्टर, चालक की मौके पर ही दर्दनाक मौत, मासूम बच्चों के सिर से उठा पिता का साया

चोरी के आरोप में पहले पकड़ा जा चुका है आरोपी

इतना ही नहीं पीड़िता की मां को 500 रूपये देकर आरोपी की मां और पिता ने मुंह बंद रखने के लिए कहा। यह बात जानकर लोगों का गुस्सा और भड़क गया। इसी बीच आरोपी के माता-पिता भी वहां से फरार हो गए। बताया जा रहा है कि पीड़ित बच्ची की मां बिहार की रहने वाली है और होशियारपुर में पति के साथ एक किराए के मकान में रहती है। वारदात की रात उसका पति काम के सिलसिले में बाहर गया हुआ था। बच्ची नर्सरी में पढ़ती है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है।अब उसकी तलाश की जा रही है. इससे पहले भी आरोपी चोरी के एक मामले में पकड़ा जा चुका है।

देश के लिए खतरा है ऐसी सोच

घटना से साफ जाहिर है कि मां- बाप किस तरह अपने बच्चे के अपराध में पूरा साथ दे रहे है। लोगों कि तुच्छ मानसिकता का पता इससे ही लग रहा है कि एक मासूम की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर उसे मौत के मुंह में भेजने के बाद 500 रूपए में मामले को रफा-दफा करने कि बात करना उतना ही घिनौना है जितना कि उसके साथ बल्तकार करना। देश में इस तरह के लोगों की मानसिकता भविष्य के लिए खतरा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *