रेहाना-राकेश गुप्ता के सबधों का दर्दनाक अंत !

सात मई की रात देहरादून में समर जहां उर्फ रेहाना को अंजान हमलावर ने गोलियों मारी थीं। जिसका खुलासा करते हुए एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया था कि दवा कारोबारी राकेश गुप्ता, उसकी पत्नी सीमा और बेटे कार्तिक ने ही साजिश रच कर हत्याकांड को अंजाम दिया था।

देहरादून के सहस्त्रधारा रोड पर विगत सात मई को देर रात समरजहां की हत्या हुई थी। सहस्त्रधारा रोड पर कार सवार बदमाश ने मुजफ्फरनगर के न्याजूपुरा निवासी समरजहां उर्फ रेहाना की तीन गोली मारकर हत्या कर दी थी। समरजहां मुजफ्फरनगर के दवा कारोबारी राकेश कुमार गुप्ता के साथ दून में लिव इन रिलेशन में रहती थी।

खुलासे में पता चला कि समर को मारने के लिए गिरफ्तार मोमिन के जरिए शूटर तक दो लाख रुपये पहुंचाए गए थे। राकेश, सीमा, कार्तिक व मोमिन पुलिस की गिरफ्त में हैं, लेकिन मुख्य आरोपित शूटर की पहचान के बाद भी पुलिस उस तक नहीं पहुंच पा रही हैं। इस मामले का मूल है आपसी सहमती से बने रिश्ते जिसमें समर जहां दवा कारोबारी के साथ लिव-इन में रहती थी।

इस बात से राकेश गुप्ता की पत्नी व उसके दो बेटों और बेटी को आपत्ति थी। बात तब और बिगड़ गई, जब देहरादून में खोले गए रेस्टोरेंट पर भी समर हक जताने लगी थी। इसी के चलते सभी उसे रास्ते से हटाने की तैयारी करने लगे और शूटर हायर किये।

समरजहां की हत्या का सौदा चार लाख रुपये में तय हुआ। इनमें से दो लाख रुपये 29 अप्रैल को कार्तिक ने सहस्त्रधारा रोड स्थित अपने रेस्टोरेंट के पास दिए। उसी दिन कार्तिक ने उसे समरजहां का फ्लैट भी दिखाया था। छह मई को रैकी करने के बाद सात मई की रात कार में आए मुख्य आरोपी ने समरजहां की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी। पुलिस हिरासत में कार्तिक गुप्ता ने कहा कि समरजहां की हत्या का उसे भी अफसोस है, लेकिन यह सब उसे मजबूरी में करना पड़ा।

करीब एक साल से परिवार में तनाव के साथ बदनामी हो रही थी। अब उसकी मांगें बढ़ने लगी थीं, जिससे हर कोई तनाव में था। गुप्ता का बेटा कार्तिक सहस्त्रधारा रोड पर पैसेफिक गोल के पास माउंट ग्रिल के नाम से फैमिली रेस्टोरेंट चलाता था। समरजहां गुप्ता के बेटे के साथ रेस्टोरेंट की देख-रेख करती थी।

सूत्रों के अनुसार, एक ओर जहां समरजहां के साथ संबंधों के चलते राकेश गुप्ता के परिवार में विवाद चल रहा था। वहीं दूसरी ओर चर्चा यह भी है कि न्याजूपुरा का एक युवक भी समरजहां पर तलाक के बाद अपने साथ रहने का दबाव डाल रहा था।

इस मामले पर गिरफ्तारी होने के बाद जुर्म कबूल किये जा चुके हैं। तलाश है केवल मुख्य शूटर की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *