शनिवार विशेष : भाग्य चमकाते हैं यह सरलतम उपाय, हर कार्य में मिलेगी सफलता

Saturday Special: It's the simplest solution to bring fate, every work will get success

हिन्दू मान्यताओं के अंतर्गत सप्ताह का हर दिन किसी ना किसी विशिष्ट देवी-देवता को समर्पित किया गया है। जिस तरह रविवार का दिन भगवान सूर्य, सोमवार का दिन महादेव को समर्पित है उसी कड़ी में शनिवार के दिन शनि पूजा और उपाय करना विशेष फलदायी माने जाते हैं।ज्योतिष की भाषा में शनि देव को न्याय का देवता माना गया है, वे व्यक्ति को उसके कर्मों के अनुसार दंड देते हैं। शनिदेव के कुप्रभाव से व्यक्ति को कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन जिन पर शनिदेव की कृपा बनती है उन्हें हर क्षेत्र में सफलता मिलती है।

शनि के प्रकोप से बचना संभव नहीं

ज्योतिष अनुसार जब किसी जातक पर शनि की ढैय्या या साढ़ेसाती आती है तब उसे उनके प्रकोप से मुक्ति पाने के लिए बहुत से उपाय करने पड़ते हैं। क्योंकि अगर वो ऐसा नहीं करते तो उनका शनि के प्रकोप से बचना संभव नहीं होता। यह कुछ सरल उपाय शनिवार को करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं अौर बाधाअों से मुक्ति दिलाते हैं। जिससे व्यक्ति को हर कार्यों में सफलता मिलनी शुरु हो जाती है।शनिवार की सुबह सफाई कर्मचारी नजर आ जाए या आप किसी को झाड़ू लगाते देख लें तो इसे भी बहुत अच्छा संकेत माना जाता है। उन्हें एक काल कपड़ा या कुछ रुपए अवश्य दें। यह इस बात का संकेत है कि जिस काम के लिए आप घर से बाहर जा रहे हैं वह अवश्य सफल होने वाला है।

यह भी पढ़े :शनिवार को जानिये क्या-क्या नहीं खरीदना चाहिए और क्यों

यह करे उपाय

  • शनि से संबंधित बाधाअों से मुक्ति पाने के लिए काले घोड़े की नाल या नाव की कील से अंगूठी बनाकर अपनी मध्यमा उंगली में शनिवार के दिन सूर्यास्त के समय धारण करें।
  • शनिवार की रात में रक्त चन्दन से अनार की कलम से ‘ॐ ह्वीं’ को भोजपत्र पर लिख कर नित्य पूजा करने से अपार विद्या, बुद्धि की प्राप्ति होती है।
  • शनिवार को तेल से बने पदार्थ भिखारी को खिलाने से शनि देव प्रसन्न होते हैं।
  • शनिवार को काले कुत्ते, काली गाय को रोटी और काली चिडिया को दाने डालने से जीवन की रुकावटें दूर होती है।
  • किसी शनिवार को, किसी भी शुभ योग/शुभ चौघडिया में शाम के वक्त अपनी लंबाई के बराबर लाल रेशमी सूत नाप लें। फिर एक पत्ता बरगद का तोड़ें। उसे स्वच्छ जल से धोकर पोंछ लें। तब पत्ते पर अपनी कामना रूपी नापा हुआ लाल रेशमी सूत लपेट दें और पत्ते को बहले हुए जल में प्रवाहित कर दें। इस प्रयोग से सभी प्रकार की बाधाएं दूर होती है और भाग्य चमकने लगता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *