तीन परिवारों के सामाजिक बहिष्कार मामले की होगी जांच

त्यूणी- देहरादून के जौनसार-बावर के सुदूरवर्ती फनार पंचायत में तीन परिवारों का सामाजिक बहिष्कार का मामला सामने आया है जिसके बाद प्रशासन ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है। इस मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्य निर्वाचन अधिकारी राधा रतूड़ी ने जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी को प्रकरण की जांच कर ग्रामीण परिवारों को सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। वहीं, डीएम ने रिटर्निंग ऑफिसर चकराता को मामले की गहनतापूर्वक जांच के आदेश दिए हैं।

बता दें कि विधानसभा चुनाव में मतदान के दौरान राजनीतिक दल से जुड़े दो पक्षों के बीच तकरार होने के बाद पंचायत बुलाकर तीन परिवारों का हुक्का-पानी बंद करने का मामला सीईओ दरबार पहुंचने से प्रशासनिक मशीनरी अलर्ट हो गई है। सोमवार को फनार निवासी पीड़ित रणवीर सिंह, शूरवीर सिंह व उदय सिंह ने भाजपा प्रदेश प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान की अगुआई में मुख्य निर्वाचन अधिकारी राधा रतूड़ी से मुलाकात कर मामले की लिखित शिकायत दर्ज कराई।

सीईओ का सौंपे शिकायती पत्र में पीड़ितों ने कहा कि 15 फरवरी को विधानसभा चुनाव में मतदान के दौरान विरोधी दल के लोगों ने उन पर दबाव बनाना चाहा, जिसका उन्होंने विरोध किया। इस दौरान विरोधी दल के लोगों ने तीनों परिवारों को धमकी भी दी। आरोप है कि उसी रात गांव स्याणा ने उनके खिलाफ पंचायत बैठाकर तीनों परिवार का सामाजिक बहिष्कार कर दिया। मतदान के बाद अगली सुबह गांव के एक संदेश वाहक ने उन्हें पंचायत के फैसले की जानकारी दी। पीड़ितों ने कहा कि गांव स्याणा ने फरमान जारी कर तीनों परिवारों का हुक्का-पानी बंद कर दिया है।

पीड़ितों का कहना है कि पंचायत के इस फैसले में गांव स्याणा समेत कुछ अन्य प्रभावशाली लोग शामिल हैं। पीड़ितों ने इसकी शिकायत त्यूणी तहसील प्रशासन से की। लेकिन, राजस्व पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। सोमवार को देहरादून पहुंचे पीड़ितों ने सीईओ कार्यालय में मामले की लिखित शिकायत दर्ज कराई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *