ट्रेड यूनियनों की हड़ताल के चलते मचा हाहाकार, कार्यकर्ताओं और ग्राहकों के बीच हाथापाई

बैंकों के विलय के विरोध में आज से देश में लाखों बैंक कर्मचारी दो दिन की हड़ताल पर हैं। कई बैंक यूनियनें हड़ताल के समर्थन में हैं। हड़ताल के चलते मंगलवार को कई बैंकों पर ताले लटके। जबकि कई बैंकों में स्टाफ की कमी रही। उत्तराखंड में भी देश व्यापि हड़ताल का व्यापक असर देखने को मिला। यहां बैंक, डाकघर, बीमा कर्मी, बिजली विभाग सहिम, केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के कर्मी हड़ताल पर रहे। बैंकों में तो प्रदर्शन कर रहे कर्मचारी और ग्राहकों की भी हाथापाई भी हो गई। पुलिस की मदद से मामले को शांत कराया गया।

कई जगहों से ग्राहकों संग झड़प की सूचना

बता दें कि न्यूनतम मजदूरी, नई पेंशन नीति को बंद करने, परिवहन नीति में संशोधन और श्रमिकों की तमाम मांगों को लेकर श्रमिक संगठनों के आह्वान पर उत्तराखंड में भी दो दिवसीय हड़ताल पर हैं। इसमें उत्तराखंड से पांच श्रमिक संगठनों से जुड़े बैंक-बीमा, ग्रुप सी के केंद्रीय कर्मचारी समेत होटल व फैक्ट्रियों आदि के 50 हजार से अधिक कामगार कार्य से विरत हैं। देश व्यापी हड़ताल के चलते राजधानी देहरादून में उत्तराखंड बैंक इंप्लॉइज यूनियन के कर्मियों ने रैली निकाकर विरोध जताया। यहां आयकर ऑफिस के सामने आयकर कर्मचारी समूह ग के सदस्यों ने धरना दिया। गांधी पार्क के सामने उत्तराखंड क्रांतिदल के सदस्यों ने सरकार द्वारा समूह ग हेतु शीघ्र अध्यादेश लाने की मांग के साथ धरना दिया।ऋषिकेश में आक्रोशित उपभोक्ताओं ने कहा कि बैंक बंद करने की सूचना क्यों नहीं दी। इस बात को लेकर झगड़े की नौबत आ गई। कई जगहों से ग्राहकों संग झड़प की सूचना भी मिली।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड में नए साल के दूसरे दिन हड़ताल से मचा ‘हाहाकार’, नवजात की मौत, जनता ने झेली फजीहत

हड़ताल को मिला इन समूहों का समर्थन

ऋषिकेश में रेलवे रोड स्थित स्टेट बैंक के बाहर बैंक कर्मियों ने प्रदर्शन किया। वहीं रुद्रपुर में राष्ट्रीकृत बैंक, बीमा कर्मी हड़ताल में रहे। सिडकुल में हड़ताल का असर नहीं दिखाई दिया। हल्द्वानी स्थित बुद्धापार्क में केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के संयुक्त आह्वान पर आहूत राष्ट्रीय हड़ताल में आशा कार्यकर्ताओं, बैंक कर्मियों, बीमा कर्मियों व अन्य समूहों का समर्थन मिला। पौड़ी में भी हड़ताल का असर दिखाई दिया। बता दें कि नई टिहरी में स्टेट बैंक और उसके सहयोगी बैंक को छोड़कर अधिकांश बैंक, एलआईसी और अन्य बीमा कार्यालय के कर्मचारी विभिन्न मांगों को लेकर दो दिवसीय हड़ताल पर हैं।रुद्रप्रयाग में पंजाब नेशनल बैक बंद हैं। कर्मचारी हड़ताल पर हैं। ग्रामीण बैंकों में भी हड़ताल का असर देखने को मिला। कर्णप्रयाग के उत्तराखंड ग्रामीण बैंक में कामकाज ठप है।

श्रमिक संगठनों की ये हैं मांगें 

  • न्यूनतम मजदूरी को 18 हजार रुपये मासिक किया जाए।
  • नई पेंशन योजना को समाप्त किया जाए।
  • सभी रिक्त पदों पर शीघ्र भर्ती हो।
  • मृतक आश्रितों की नियुक्ति को पांच फीसद सीलिंग को समाप्त किया जाए।
  • समूह ख व ग के कार्यरत सभी कार्मिकों को पूरी सेवा में पांच समयबाधित पदोन्नति मिले।
  • होटल कर्मियों को ईपीएफ व ईएसआइ की सुविधा मिले।
  • सरकारी विभागों को समाप्त न किया जाए और उनमें आउटसोर्सिंग व ठेकेदारी प्रथा को बंद किया जाए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *