देहरादूनःस्वामी विवेकानंद चैरिटेबल हॉस्पिटल में मिलेगी टेलीमेडिसिन यूनिट की सुविधा

राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने धर्मावाला,देहरादून में स्वामी विवेकानन्द हेल्थ मिशन सोसायटी चैरिटेबल हाॅस्पिटल में टेलीमेडिसिन यूनिट का शुभारम्भ किया। राज्यपाल ने अस्पताल में भर्ती मरीजों से उनके स्वास्थ्य की जानकारी भी ली।राज्यपाल ने स्वामी विवेकानंद हेल्थ मिशन सोसायटी के कार्यो की सराहना की। उन्होंने अस्पताल में डिलीवरी की सुविधा बढ़ाने को कहा, ताकि ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को बेहतर सुविधा मिल सके।

राज्यपाल ने अस्पताल में टेलीमेडिसिन सेवा शुरू करवाने के लिए इसरो द्वारा मदद किये जाने पर, इस सेवा कार्य में योगदान के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि मानवता की सेवा ही हम सबका का कर्तव्य होना चाहिए। स्वामी विवेकानन्द के दिखाए रास्ते पर चलकर ज्यादा से ज्यादा लोगों को जुड़ना चाहिए। राज्यपाल ने अस्पताल में प्रसूति केन्द्र भी खोलने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि संस्था को क्षेत्र की बहनों-बेटियों को उनके कौशल के अनुसार प्रशिक्षण भी दिलवाना चाहिए, ताकि वे अपने पैरों में खड़े हो सकें। इस मौके पर उन्होंने कहा कि इस यूनिट के लगने से पहाड़ के गरीब मरीजों को अच्छा उपचार मिलेगा। राज्यपाल ने कहा कि ऐसे समय में जब सरकारी व निजी अस्पतालों में टेली मेडिसिन की सुविधा नहीं है, ऐसे में स्वामी विवेकानंद प्रबंधन ने यह सुविधा देकर बड़ा काम किया है। सोसायटी अध्यक्ष डॉ. एसके वर्मा ने कहा कि यूनिट के लगने से नोएडा के सुपर स्पेशलिटी यर्थाथ अस्पताल नोएडा के विशेषज्ञ चिकित्सकों से पूरा सहयोग मिलेगा, जिससे पहाड़ में मरीज को पर्याप्त उपचार मिलेगा।

यह भी पढ़ेंः गणतंत्र दिवस परेड़-2019ः ‘‘भारत के स्विटजरलैण्ड’’ में स्थित ‘अनासक्ति आश्रम’ पर बनी झांकी, यह है खासियत

प्रबंधन से जुड़े डॉ. अनुज ¨सघल ने बताया कि स्वामी विवेकानंद हेल्थ मिशन सोसायटी की ओर से अभी तक चारों धाम के यात्रा मार्गो पर चार चिकित्सालय स्थापित किए गए हैं, जिनमें टेलीमेडिशन की सुविधा है। यह सुविधा इसरो के माध्यम से 12 महीने काम करेगी। पहाड़ में अक्सर नेटवर्क फेल हो जाते हैं, लेकिन सेटेलाइट लिंक के चलते टेलीमेडिसिन की सुविधा पर कोई असर नहीं पडेगा और विशेषज्ञ चिकित्सकों की मदद से पहाड़ में मरीज का बेहतर उपचार संभव हो सकेगा। इस मौके पर डॉ. तारा ¨सघल, इसरो अहमदाबाद के निदेशक टेलीमेडिकल डॉ. वीरेंद्र कुमार, रामचंद्रन, अल्पसंख्यक आयोग अध्यक्ष डॉ. आरके जैन, पूर्व प्रमुख वन संरक्षक आरबीएस रावत, सीओ भूपेंद्र धोनी, रविंद्र बिष्ट आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *