अमेरिका से टकराया सदी का सबसे शक्तिशाली तूफान ‘माइकल’ 250 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चल रही हवाएं

The most powerful storm of the century hit America's 'Michael

अमेरिका मेें 167 साल का सबसे भीषण तूफान ‘हरिकेन माइकल’ तबाही मचा रहा है। यह सदी का सबसे शक्तिशाली तूफान है। बताया जा रहा है की गुरुवार को यह तूफान फ्लोरिडा के उत्तर-पश्चिमी तट से टकराया। फ्लोरिडा के अधिकारियों ने कहा कि माइकल की वजह से 155 मील प्रतिघंटा (250 किलोमीटर प्रतिघंटा) की रफ्तार से हवाएं चलीं। जिससे तटीय इलाकों में भूस्खलन और पेड़ गिरने जैसी घटनाएं हुई। भारी बारिश से समुद्र के करीबी इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई। पेड़ की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई।

राज्य के आपातकालीन सेवा विभाग के मुताबिक, फ्लोरिडा, अलाबामा और ज्योर्जिया में तूफान की वजह से 5 लाख लोग बिना बिजली के रहने को मजबूर हैं। तट से टकराने के वक्त माइकल इतना ताकतवर था कि अंदर घुसने के बावजूद हवाओं की रफ्तार में खास कमी नहीं आई। माइकल मंगलवार को कैटेगरी-2 का तूफान था। लेकिन बुधवार सुबह तक इसकी तीव्रता बढ़कर कैटेगरी-4 के ‘अत्याधिक खतरनाक’ तूफान की हो गई थी। वैज्ञानिकों का कहना था कि इस बेहद भीषण तूफान की तुलना पिछले तूफानों से नहीं की जा सकती। हालांकि, तट से टकराने से पहले माइकल की तीव्रता घटकर कैटेगरी-3 पर आ गई। माइकल की चपेट में आकर मध्य अमेरिका में अब तक 13 लोगों की मौत हुई है। होंडुरास में 6 की मौत, निकारागुआ में 4 और अल-साल्वाडोर 3 लोगों की मौत हुई। खतरे को देखते हुए फ्लोरिडा से पहले ही 3.70 लाख लोगों को निकाल लिया गया। अधिकारियों का कहना है कि कई लोगों ने उनकी चेतावनी नहीं मानी।

यह भी पढ़ेंः चक्रवाती तूफान ‘तितली’ से सहमा ओडिशा, कई राज्यों में असर,भयंकर तबाही का खतरा
रिकॉर्ड के मुताबिक, फ्लोरिडा पैनहैंडल (उत्तर-पश्चिमी इलाकों) से आज तक कभी कैटेगरी-4 तूफान नहीं टकराया। तूफान से निपटने के लिए नेशनल गार्ड के 2500 सदस्यों को ड्यूटी पर लगाया गया है। राहत अभियानों के लिए संघीय फंड जारी किए गए। वहीं रिपोर्ट्स के अनुसार , माइकल अमेरिका में भूस्खलन लाने वाला तीसरा सबसे ताकतवर तूफान है। इससे पहले 1969 में मिस्सीसिपी और 1935 में फ्लोरिडा में तूफानों की वजह से अमेरिकी मेनलैंड में भूस्खलन हुआ था करीब तीन घंटों तक तेज हवाओं और भारी बारिश के बाद पनामा सिटी की सड़कों पर चलना मुश्किल हो गया। जगह-जगह पेड़ उखड़े पड़े हैं, सेटेलाइट डिशें और ट्रैफिक लाइट उखड़ी पड़ी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *