उत्तराखंड का काला सोमवार, दर्दनाक सड़क हादसों में सात लोगों की मौत, 8 गंभीर घायल, मचा कोहराम

प्रदेश में दर्दनाक हादसों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। राज्य में दो दिन में तीन अलग, अलग दर्दनाक  हादसों ने सात जिंदगियां लील ली है। जबकी आठ लोग जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहे है। मृतकों के परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। हादसे इतने भयावह थे कि देखने वालों के रोंगटे खड़े हो गए।

बता दें कि सोमवार तड़के एक बोलेरों वाहन खाई में गिरने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई है। जबकी सात लोग गंभीर घायल हो गए है। जिनका उपचार चल रहा है।बताया जा रहा है कि दिल्ली से बैजरो जा रहा एक बोलेरो वाहन नजीबाबाद-बुवाखाल नेशनल हाईवे पर दुगड्डा से करीब 5 किलोमीटर आगे अनियंत्रित होकर खाई में गिर गया। जिसमें चौरखंड बेदीखाल निवासी एक ही परिवार के लोग सवार थे।हादसा सुबह करीब साढ़े चार बजे हुआ। मृतकों में एक महिला और दो पुरुष हैं।

दूसरा हादसा चम्पावत में रविवार को लगभग सवा ग्यारह बजे हुआ है । यहां लोहाघाट की ओर जाते समय चलती हुई मारूती स्टीम कार पर अचानक विशाल पेड़ गिरने से दो महिलाओं की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई हैं। बताया जा रहा है दोनो महिलाओं ने कार चालक से लिफ्ट मांगी थी। और वह हादसे का शिकार हो गई। मृतकों की पहचान मुन्नी पाण्डेय, उम्र 54 वर्ष, पत्नी केशव दत्त पाण्डेय, निवासी छतार पुनेड़ी, चम्पावत तथा दुर्गा देवी उम्र 72 वर्ष, पत्नी स्व.प्रेमबल्लभ पाण्डेय, निवासी कनलगाव, के रूप में हुई है। वहीं वाहन में सवार (चालक) विनोद चौधरी, निकट कलक्ट्रेट मामूली रूप से घायल हुए हैं।

यह भी पढ़ेंः एयरो इंडिया शो में एक और बड़ा हादसा, पार्किंग में लगी भीषण आग, 300 कारें जलकर खाक

तीसरा हादसा देहरादून रोड का है यहां एक स्कूटी अनियंत्रित होकर 600 मीटर गहरी खाई में जा गिरी। हादसे में स्कूटी सवार  युवक और युवती की मौके पर ही मौत दर्दनाक मौत हो गई। पुलिस को रेस्क्यू कार्य करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। करीब तीन घंटे की कड़ी मश्क्कत के बाद शवो को बाहर निकाला जा सका। गाड़ी के परखच्चे उड़ गए। हादसे की सूचना मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया है। दोनो परिवारों में बूरा हाल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.