उत्तराखंड: हाईटेंशन लाइन की चपेट में आकर यात्रियों से भरी बस बनी आग का गोला, 7 लोग बुरी तरह झुलस, मची चीख-पुकार

Uttarakhand: A fire ball filled with passengers, coming out of the hiatus line,

उत्तराखंड के रुड़की में मंगलवार सुबह एक बडा हादसा हो गया है। यहां कलियर में यात्रियों से भरी बस देखते ही देखते आग का गोला बन गई। आग लगने से आधा दर्जन यात्री बुरी तरह झुलस गए। हादसे का कारण हाईटेंशन लाईन का तार बताया गया है। वहीं मुख्यमंत्री ने घटना का संज्ञान लेते हुए सम्बन्धित जूनियर इंजीनियर को तत्काल निलंबित करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही घटना की जांच हेतु मुख्य अभियन्ता की अध्यक्षता में जांच कमेटी गठन करने तथा घायलों के उचित उपचार की व्यवस्था के निर्देश दिए है।

जानकारी के अनुसार हरिद्वार स्थित एल्प्स कम्पनी की बस प्रतिदिन की तरह कलियर क्षेत्र से कर्मचारियों को लेने आई थी। बस अलग-अलग गांव से महिलाओं एवं पुरुषों को एकत्र करती है। आज सुबह वह इनायतपुर से सिडकुल की ओर जा रही थी। जैसे ही बस हद्दिवाला के समीप पहुंची तो सड़क के ऊपर से गुजर रही हाईटेंशन विद्युत लाईन का तार बस से टच हो गया। इस कारण बस में करंट फैल गया। बस में करीब 50 यात्री सवार थे। जिसमें से अन्य यात्री भी हल्के झुलसे हैं। वहीं एक बच्चे की हालत गंभीर बताई जा रही है। घायलों को रुड़की सिविल अस्पताल में उपचार के लिए भिजवाया गया है। एक कि हालत गंभीर देखते हुए हायर सेंटर रेफर किया।
यह भी पढ़े: उत्तराखंड: बस और स्कूटी की जबरदस्त भिड़ंत में रिश्तेदार की अंत्येष्टि में जा रहे पिता-पुत्र की दर्दनाक मौत

बताया जा रहा है कि आग लगते ही सवारियों में चीख पुकार मच गई। बस में सवार लोगों को इतना मौका भी नही मिला कि वह अपनी जान बचाने के लिए भाग पाएं। बस में सवार करीब आधा दर्जन लोग बुरी तरह झुलस गए। मौके पर भारी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गयी। वहीं सूचना परिजनों को मिली तो वह भी घटनास्थल की ओर दौड़ लिए। मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को रुड़की सिविल अस्पताल भिजवाया है। वहां 20 वर्षीय निशा की हालत गंभीर देखते हुए हायर सेंटर रेफर किया गया। वहीं मौके पर इकट्ठे हुए आक्रोशित ग्रामीणों ने बिजली विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। ग्रामीणों का कहना था कि बिजली विभाग की लापरवाही के कारण यह हादसा हुआ है।क्योंकि यह हाईटेंशन लाईन का तार पिछले कई दिनों से सड़क पर झूल रहा था लेकिन किसी ने इसकी ओर ध्यान नही दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *