उत्तराखंड: कलयुगी पोता-पोती ने दादा को पीट-पीटकर घर से निकाला, बीच सड़क में भी की मारपीट

Uttarakhand: Kalyugi grandchildren beaten grandfather

अपने संस्कारों और संस्कृति के लिए पहचान रखने वाले उत्तराखंड में भारतीय संस्कारों पर दाग लगाने वाली घटना सामने आई है। यहां एक बुजुर्ग को उसके सगे पोता-पोती ने पहले बुरी तरह मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया और घर में दुबारा न आने की धमकी दी। इतना ही नहीं बचाव करने आय लोगों के साथ भी अभद्रता की। जिसके पीड़ित बुजुर्ग ने कोतवाली पहुंचकर मारपीट की शिकायत की है।

जानकारी के अनुसार धर्मनगरी हरिद्वार से सटे रुड़की के गंगनहर कोतवाली क्षेत्र स्थित रामनगर के नई बस्ती निवासी एक बुजुर्ग के साथ सगे पोता-पोती ने मारपीट कर दी।आसपास के लोगों ने बीच बचाव कराने का प्रयास किया तो उनके साथ भी अभद्रता कर दी। आरोप है कि दोनों ने अपने दादा के साथ बीच सड़क में भी मारपीट की। बुजुर्ग के साथ मारपीट होती देख लोगों की भीड़ जमा हो गई। लोगों ने किसी तरह बुजुर्ग को बचाया। आरोप है कि इसके बाद पौत्र-पौत्री ने दोबारा घर में घुसने पर उन्हें धमकी दी। पीड़ित बुजुर्ग ने कोतवाली पहुंचकर पुलिस को आपबीती सुनाई। इस दौरान बुजुर्ग फफक कर रो पड़े। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी पोते को कोतवाली में बुलाकर पूछताछ की, लेकिन वह कोई जवाब नहीं दे पाया। दादा से मारपीट करने पर पुलिस ने युवक को जमकर फटकार लगाई और साथ ही भविष्य में दोबारा ऐसी गलती करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी। एसएसआई रणजीत तोमर ने बताया कि दोबारा मारपीट करने पर युवक को कार्रवाई की चेतावनी दी गई है। बुजुर्ग को घर भेज दिया गया है।
यह भी पढ़े :उत्तराखंड में नशेड़ी बाप ने पार की हैवानियत की हदें, पत्नी को बेरहमी से पीटने के बाद मासूम बेटी की आंख में दागी बीड़ी

वहीं पिछले दिनों में मंगलौर व झबरेड़ा क्षेत्र में बदमाशों ने ताबड़तोड़ एक के बाद एक लूट की वारदात को अंजाम देकर खाकी के इकबाल को खतरे में डाल दिया है। बदमाशों ने बेखौफ होकर लूट की वारदात को अंजाम दिया और फरार हो गए, लेकिन पुलिस को अभी तक बदमाशों के पकड़े जाने में कोई सफलता नहीं मिली है। दो महीने से बदमाश जिले की सरहद पर जमकर कहर बरपा रहे हैं। बदमाशों ने पुलिस से लेकर आमजन का चैन छीन लिया है। पुलिस वारदातों को रोकने के लिए गश्त कर रही है तो आमजन भी बदमाशों के खौफ से रातभर जागकर अपनी सुरक्षा कर रहे हैं। बदमाशों के खौफ से मंगलौर व झबरेड़ा क्षेत्र के लोगों में दहशत का ऐसा माहौल बन गया है कि वह शाम होते ही खेतों से लेकर बाजार आने-जाने से भी कतरा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *