उत्तराखंड की बेटी खेल जगत में मनवा रही अपना लोहा,ऐसा करने वाली बनी पहली और एकमात्र शटलर

uttarakhand's first and only shuttle to participate in the Kuhoo Garg Senior World Championship

उत्तराखंड की बेटियां खेल के क्षेत्र में बेटों से एक कदम आगे हैं। ऐसा कोई खेल नहीं, जहां बेटियां अपनी चमक बिखेरने में बेटों से पीछे रही हो। यहां की बेटियां खेल जगत की दुनिया में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रही है। इसी कड़ी में प्रदेश की बेटी कुहू गर्ग ने अपने शानदार प्रदर्शन से खेल जगत में राज्य का नाम रोशन किया है।

बता दे कि देहरादून निवासी कुहू गर्ग ने 2007 से बैडमिंटन खेलना शुरू किया। उन्होंने एक ही साल में दो अंतरराष्ट्रीय खिताब जीतकर संदेश दे दिया है कि वह आने वाले समय में राज्य को किस मुकाम तक पहुंचाने वाली हैं। कुहू गर्ग कई अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय खिताब जीत कर फलक पर छाने के लिए जीतोड़ मेहनत कर रहीं हैं। कुहू सीनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेने वाली उत्तराखंड की पहली और एकमात्र शटलर हैं। कुहू इससे पहले लगातार तीन बार जूनियर वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं।कुहू और रोहन कपूर की जोड़ी ने 2018 में आइसलैंड ओपन का खिताब अपने नाम किया था। इंडिया इंटरनेशनल सीरीज में भी कुहू और रोहन ने दूसरा स्थान हासिल किया था। इस वर्ष कुहू दो अंतरराष्ट्रीय और दो नेशनल रैंकिंग टूर्नामेंट अपने नाम कर चुकी हैं। कुहू के पिता और उत्तराखंड राज्य बैडमिंटन संघ के प्रदेश अध्यक्ष अशोक कुमार उन्हें भविष्य का बड़ा खिलाड़ी मानते हैं। उन्होंने बताया कि कुहू बचपन से ही खेल के प्रति समर्पित थी। वर्तमान में भी वह लगातार बेहतर प्रदर्शन करने के लिए जीतोड़ मेहनत करती है। कुहू इन दिनों डच ओपन, फ्रेंच ओपन और हंगरी इंटरनेशनल में हिस्सा ले रहीं हैं।
यह भी पढ़ें- पीवी सिंधु ने रचा इतिहास ,एशियाड फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय शटलर बनीं
वहीं कुहू के अलावा राज्य के कुछ जूनियर खिलाड़ी भी खुद को साबित करने की होड़ में जुटे हुए हैं, इसी कड़ी में जूनियर शटलर उन्नति बिष्ट भारतीय रैंकिंग में तीसरे स्थान पर काबिज हैं।उन्नति ने 2012 में राष्ट्रीय स्तर प्रतियोगिताओं में पर्दापण किया। 2013 में आल इंडिया सब जूनियर मेजर रैंकिंग टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक जीता। इसके बाद 2014 में आल इंडिया सब जूनियर मेजर रैंकिंग टूर्नामेंट के मिक्स डबल्स में भी स्वर्ण पदक अपने नाम किया । 2017 में उन्होंने म्यामार में हुई एशियन बैडमिंटन चैंपियनशिप में प्रतिभाग किया। 2018 में जर्मनी में हुई जूनियर इंटरनेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप के लिए इनका चयन हुआ। 2018 में महिला एकल में उत्तराखंड स्टेट चैंपियन औऱ भारत में अंडर-17 में तीसरे और अंडर-19 में आठवें पायदान पर है काबिज है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *