,छठ के रंग में रंगा देहरादून, प्रदेश की तरक्की की दुआ के साथ क्षितिजगामी सूरज को दिया अर्घ्य

Ranga Dehradun in the color of Chhath,

देहरादूनः लोक आस्था और प्रकृति पूजन के सबसे बड़े धार्मिक आयोजन छठ पूजा में मंगलवार की सायं अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया गया। पूर्वा सांस्कृतिक मंच के छठ घाटों पर मौजूद हजारों श्रद्दालु इस ऐतिहासिक क्षण के गवाह बने और उन्होंने सामाजिक सौहार्द और आपसी भाईचारे के साथ ही देश और उत्तराखंड प्रदेश की खुशहाली की कामना की। बुधवार की सुबह उगते सूरज को अर्घ्य देने के साथ छठ महापर्व का समापन होगा।

मंगलवार की अपराह्न चार बजते ही राजधानी देहरादून की सड़कों  पर छठ व्रतियों और श्रद्धालुओं का रेला उमड़ पड़ा।निजी वाहनों और पैदल सिर पर छठ पूजा का प्रसाद लिये श्रद्धालु निकटवर्ती छठ घाटों की ओर रवाना हो गये। सायं पांच बजे तक छठ घाट श्रद्धालुओं से खचाखच भर गया। घाट पर पहुंचने के बाद व्रतियों ने सबसे पहले प्रसाद के निमित्ति तैयार किये पकवान को घाटों पर अपने लिए पूर्व निर्धारित स्थानों पर रखा। उसके बाद छठ व्रती निर्मल जल में उतर गये। पानी में खड़े होकर उन्होंने सूर्यास्त होने तक भगवान भास्कर को प्रसाद का अर्पण किया और उन्हें अर्घ्य दिया। साढ़े पांच बजे के करीब जैसे ही भगवान भास्कर अस्त होने को आये कि उन्हें आरती की गयी। आरती के समय पूरे देश खासकर उत्तराखंड की तरक्की की प्रार्थना की गयी। इस आरती के बाद सभी छठ व्रती प्रसाद और अन्य पूजनोपयोगी वस्तुओं के साथ घर को लौट आए। बुधवार को भोर का तारा दिखने से पहले सभी व्रती फिर से छट घाटों पर पहुंचेगे और उगते सूरज को प्रसाद अर्पित करने के साथ छठ पर्व का समापन करेंगे। छठ व्रतियों और श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा ना हो इसके लिए पूर्वा सांस्कृतिक मंच ने पूरा इंतजाम किया था।

पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड मूल के प्रवासी लोगों के इस संगठन ने इस बार राजधानी देहरादून और आसपास के ग्रामीण क्षेत्र में बहते पानी के 16 स्त्रोतों मालदेवता, रायपुर, नत्थनपुरा, पुलिया नम्बर छह, हरबंशवाला, सिंहल मंडी, चंद्रबनी आदि को छठ घाट का रूप दिया था। इन घाटों की साफ सफाई, बिजली, आवागमन आदि की व्यवस्था मंच की ओर से की गयी।मंच ने सभी घाटों पर वालंटियर और घाट प्रभारियों की तैनाती के साथ ही डाक्टरों की तैनाती भी की थी। ताकि किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति से तत्कार निपटा जा सके। मंगलवार को पूर्वा मंच के सभी घाटों पर महिला वालंटियरों की तैनाती भी की गयी। क्योंकि छठ व्रती मुख्य रूप से महिलाएं श्रद्धालु ही होती हैं। मंच के मीडिया प्रभारी संजय झा ने बताया कि बुधवार को सुबह का अर्घ्य सम्पन्न होने के बाद सभी घाटों की साफ सफाई की जाएगी।

सियासी दलों ने भी लिया आशीर्वाद

पूर्वा  सांस्कृतिक मंच ने इस बार देहरादून के 16 छठ घाटों पर व्यवस्था की थी। स्थानीय लोगों ने भी इसमें हर संभव मदद की। स्थानीय लोगों के साथ ही सियासी दलों ने भी छठ पूजा में बढ़ चढ़कर भाग लिया। निकाय चुनाव के कई उम्मीदवार मंच के घाटों पर पहुंचे और भगवान भास्कर का आशीर्वाद लिया। हरबंश वाला घाट पर सूर्यकांत धस्माना, स्थानीय विधायक हरबंश कपूर, रायपुर घाट पर विधायक खजानदास, सुनील उनियाल गामा आदि पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *