भीख मांगने वाले बच्चों के लिए बाल आयोग सख्त

Uttarakhand Child Rights Protection Commission

देहरादून : उत्तराखंड बाल अधिकार संरक्षण आयोग को राज्य में बचपन बचाओ आंदोलन चला रहे सुरेश उनियाल व पंकज कुमार ने पत्र लिखकर बताया कि भिक्षावृत्ति पर रोक के बावजूद परेड ग्राउंड में रविवार को सुबह 20 से 25 परिवार अपने मासूम बच्चों के साथ भिक्षावृत्ति करते पाए गए।

आयोग के अध्यक्ष योगेंद्र खंडूड़ी ने मामले का संज्ञान लेते हुए इस संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजा है।आयोग द्वारा पत्र में पुलिस से उक्त बच्चों की सुरक्षा के लिए उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
दून के सभी प्रमुख चौराहों पर यह परिवार बच्चों के साथ दिनभर भीख मांगते हैं। पहले तो बच्चों से भीख मंगवाकर अपराध कराया जा रहा है और ऊपर से सर्दियों में खुले आसमान के नीचे सुबह से रात तक ये बच्चे बिना गर्म कपड़ों के घूमते हैं, जिससे इनकी सेहत बिगड़ने का भी खतरा बना हुआ है। संस्था ने आयोग को बच्चों की सचित्र शिकायत करते हुए इन बच्चों की सुरक्षा, सर्दी से बचाने के लिए जरूरी संसाधन उपलब्ध कराने और इनके पुनर्वास के लिए उचित कदम उठाने की मांग की है। बच्चो के साथ इस प्रकार का व्यवहार देश को खोकला कर रहा है। सरकार द्वारा चलाया जा रहा सर्व शिक्षा अभियान इन बच्चो को देख समज आता है किस प्रकार कार्य कर रहा है।

यह भी पढ़े :
उत्तराखंड शासन ने राज्य में भिक्षावृत्ति पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा रखा है। इसके बावजूद राजधानी के विभिन्न चौराहों व गली-मोहल्लों में बच्चे व महिलाएं भीख मांगते देखे जा सकते हैं।बाल आयोग ने चौराहों पर भीख मांगने वाले बच्चों की सेहत के प्रति गंभीरता दर्शाते हुए सख्त कदम उठाए हैं। आयोग ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को निर्देश जारी कर इन बच्चों को सुरक्षा मुहैया कराने को कहा है। उधर, अल्मोड़ा के लमगढ़ा ब्लॉक में छात्र की संदिग्ध हालत में जलकर मौत होने के मामले में बाल आयोग के अध्यक्ष योगेंद्र खंडूडी ने जिलाधिकारी को पत्र भेज मामले की जांच करने के आदेश भी दिय है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *