देहरादून में आठ दिन से लापता मैकेनिक की हत्या, जंगल में मिला क्षत-विक्षत हालात में शव

Death of missing mechanic in Dehradun for eight days

प्रदेश की राजधानी देहरादून में सनसानीखेज मामला सामने आया है। यहां बोरवेल मैकेनिक की हत्या कर शव को क्षत-विक्षत हालात में पटेलनगर कोतवाली क्षेत्र में तुंतोवाला के जंगल में  फेका गया है। बताया जा रहा है कि मृतक आठ दिन से लापता था। शव पर मिले जख्मों के आधार पर माना जा रहा है कि मैकेनिक का पहले गला घोंटा गया और उसके बाद सिर पर भारी वस्तु से वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया गया। इसके बाद उसकी नाक भी काट दी गई। जंगल में मिलने से आस पास के क्षेत्र में दहशत का माहौल है।

जानकारी के अनुसार देहरादून से सटे तुंतोवाला के जंगल में लकड़ी बीनने गई एक महिला की नजर शव पर पड़ी। जिसके बाद महिला ने  आसपास के लोगों घटना के बारे में बताया। मौके पर पहुंचे लोगो ने शव की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू की। शव की शिनाख्त नवीन उप्रेती पुत्र धनीराम उप्रेती निवासी पाटिया मोहब्बेवाला के रूप में हुई है। पुलिस ने मृतक के परिजनों को सूचना दे दी है। पूछताछ में मृतक के बेटे सूरज ने बताया कि नवीन बोरवेल मैकेनिक और बोरिंग का काम करता है। बीते 30 नवंबर को ओमी नाम का एक व्यक्ति नवीन को घर से बुलाकर ले गया था। उसने बताया था कि एक बोरिंग के सिलसिले में पंजाब जाना है। नवीन उसके साथ निकल गया, लेकिन वापस नहीं आया। प्राथमिक जांच के अनुसार पुलिस हत्या के पीछे अवैध संबंध होने का शक जाहिर कर रही है। मैकेनिक के बेटे की तहरीर पर एक महिला समेत तीन के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। सभी आरोपित फरार बताए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः शर्मनाक; उत्तराखंड में हैवान बना बेटा, कमरे में बंद कर मां के साथ किया जानवरों जैसा सलूक

वहीं दूसरी और मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने गंगा की रक्षा समेत कई मांगों को लेकर अनशन कर रहे संत गोपालदास के रहस्यमय तरीके से गायब हो जाने पर सवाल उठाते हुए आरोप लगाया कि गहरी साजिश के तहत उन्हें गायब किया गया है। सरकार को यह खुलासा करना चाहिए कि दिल्ली एम्स से लाकर किसने दून अस्पताल में भर्ती कराया और फिर उन्हें कौन कहां ले गया। शुक्रवार को मातृ सदन परिसर में पत्रकारों से वार्ता करते हुए स्वामी शिवांनद ने कहा कि यह बड़ी गहरी साजिश है कि दिल्ली के एम्स में भर्ती संत गायब हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *