देहरादून में देश के सबसे महंगे इस स्कूल पर लगे छात्राओं से यौन शोषण जैसे गंभीर आरोप , पढ़े पूरी खबर

देश का सबसे महँगे स्कूलों में शुमार मसूरी इंटरनेशनल स्कूल में सनसनी खेज मामला प्रकाश में आया है । स्कूल की छात्राओं के अभिभावकों ने कई चौंकाने वाले गंभीर आरोप स्कूल की व्यवस्थाओं पर लगाए हैं। जानकारी के अनुसार अभिभावकों का आरोप है कि स्कूल में रैगिंग के साथ ही सीनियर छात्राओं की ओर से जूनियर छात्राओं का यौन शौषण किया जाता है। इन गम्भीर आरोपो की शिकायत उत्तराखंड बाल अधिकार संरक्षण आयोग में की गई है । आयोग द्वारा मामले की जांच शिक्षा महानिदेशक को सौंपी गई है।

दरअसल दो सप्ताह पूर्व मसूरी इंटरनेशनल स्कूल के हॉस्टल से चार छात्राएं भाग गई थीं। इसके बाद ही स्कूल की छात्राओं के अभिभावकों ने स्कूल की व्यवस्थाओं पर सवाल उठाते हुए गंभीर आरोप लगाए हैं। अब छात्राओं के अभिभावकों ने स्कूल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।बता दे कि अभिभावकों ने स्कूल में सीनियर छात्राओं द्वारा रैगिंग, यौन शोषण ,बाथरूम में गेट न होने सहित 11गंभीर आरोप लगाए हैं। इसमें सबसे बड़ा गंभीर आरोप स्कूल में सीनियर  छात्राएं जूनियर छात्राओं का यौन शौषण करती हैं। इस प्रकार की घटना बेहद शर्मनाक है , जो विद्यालय की ख्याति पर भी दाग लगाती है ।वहीं इस सम्बंध में अभिभावकों की ओर से उत्तराखंड बाल अधिकार संरक्षण आयोग में शिकायत की गई। आयोग ने मामले को बेहद गंभीरता से लेते हुए शिक्षा महानिदेशक कैप्टन आलोक शेखर तिवारी को जांच सौंपी दी थी। आपको बता दे कि मसूरी इंटरनेशनल स्कूल देश-विदेश में काफी प्रसिद्ध है। यहां एनआरआइ बच्चे पढते हैं। यहां की वार्षिक फीस 40 लाख रूपये है।

यह भी पढ़े :देहरादून: झरने में नहाने के दौरान मर्चेंट नेवी ऑफिसर की मौत

आयोग में दिए गए शिकायत पत्र में अभिभावकों ने आरोप लगाया है कि स्कूल में छात्राओं को आपस में शारीरिक संबंध बनाने को प्रेरित किया जा रहा है। अभिभावकों के मुताबिक इसकी शिकायत पूर्व में कई बार प्रबंधन से की जा चुकी है, लेकिन वे शिकायत की अनदेखी कर रहे हैं। इससे स्कूल में ऐसी छात्राओं की संख्या तेजी से बढ़ रही है। आयोग ने मामले को गंभीरता से लेते हुए कहा है कि स्कूल से देश-प्रदेश की पहचान जुडी है। इसलिए आरोपों की गहनता से जांच के लिए शिक्षा महानिदेशक व डीजीपी को अलग-अलग जांच सौंप दी गई है। साथ ही 15 दिन में जांच रिपोर्ट सौंपने को कहा है।

बता दे कि अभिभावकों ने शिकायत पत्र में सुसाइड नोट का भी जिक्र किया है। इसमें कहा है कि एक छात्रा के पास से सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें उसने स्कूल की अव्यवस्थाओं से तंग आकर सुसाइड नोट लिखा था। हालांकि छात्रा कोई गलत कदम उठाती, उन्हें इसकी जानकारी लग गई। आरोप लगाया कि दो सप्ताह पूर्व चार छात्राएं भी इन्हीं कारणों से भागी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *