देहरादून में स्कूल वैन चालक से परेशान होकर नौवीं की छात्रा ने की खुदकुशी,आरोपी गिरफ्तार

Disturbed by the school van driver in Dehradun, the ninth student took suicied, arrested

देहरादून में नौवीं की छात्रा की ने स्कूल वैन चालक की छेड़छाड़ और धमकियों से तंग आकर जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। मामले में प्रेमनगर पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित को पुलिस ने अदालत में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। पुलिस ने वैन चालक के मोबाइल को भी बरामद कर लिया है, जिससे वह छात्रा की फेसबुक आइडी चलाता था और उससे बातें भी करता था। पुलिस मोबाइल की सीडीआर के साथ डिलीट किया डाटा भी रिकवर करा रही है। आरोपित मूलत: बदायूं का रहने वाला है, लेकिन पिछले चालीस साल से परिवार दून में ही रह रहा है।

दरअसल नवीं में पढ़ने वाली छात्रा (14 वर्ष) 10 अक्टूबर को ट्यूशन क्लास को गई तो वहां उसे उल्टियां होने लगीं। उसे अस्पताल ले जाया गया तो चिकित्सकों ने बताया कि उसने विषाक्त पदार्थ खा लिया है। 12 अक्टूबर को उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस को छात्रा के कमरे की तलाशी के दौरान एक डायरी मिली। इसमें उसने स्कूल वैन चालक अमन श्रीवास्तव पुत्र मुकेश कुमार निवासी श्यामपुर, प्रेमनगर पर फेसबुक पर आपत्तिजनक फोटो अपलोड करने और ब्लैकमेल करने की बात लिखी थी। उसने इसी को खुदकुशी का कारण भी बताया था।पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर अमन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। एसओ प्रेमनगर दिलबर सिंह नेगी ने बताया कि गुरुवार को अमन को पूछताछ के लिए थाने बुलाया गया था, जहां उसे गिरफ्तार कर लिया गया। लड़की के पिता फौज में हैं और परिवार मूलरूप से पौड़ी का रहने वाला है।
यह भी पढ़े:  शर्मनाकः देहरादून में एक बड़े स्‍कूल ने दुष्‍कर्म पीड़िता को नहीं दिया प्रवेश
पुलिस ने छात्रा के दोस्तों और परिजनों से घटना के बाबत लंबी पूछताछ की। पता चला कि कुछ दिन पहले अमन छात्रा को मसूरी भी ले गया था। इस टूर की फोटो उसने छात्रा के पिता को भी भेज दी थी। अमन फेसबुक अकाउंट, वाट्सएप अकाउंट की जानकारी कर उसके सोशल मीडिया अकाउंट का बैकअप डाटा रिकवर किया जा रहा है।स्कूल वैन चालक के उत्पीड़न की शिकार छात्रा के खुदकुशी करने के बाद पुलिस ने गुरुवार को शहर में सार्वजनिक परिवहन सेवाओं की ताबड़तोड़ चेकिंग की। इस दौरान पुलिस ने सवारियों और बच्चों को जागरूक किया और कहा कि किसी भी तरह की उत्पीड़न की घटना होने पर चुप न रहें, बल्कि तत्काल पुलिस को अवगत कराएं। जिससे मामले को गंभीर होने से रोका जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *