फ्रांसीसी राष्‍ट्रपति इमैन्‍युएल मैक्रों भारतीय दौरे पर ,रक्षा समेत होंगे कई समझौते

French President Emmanuel Macroon will be on the Indian tour

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों चार दिवसीय भारत दौरे पर अपनी पत्नी ब्रिगिट्टे मैरी क्लाउड मैक्रों और मंत्रिमंडल के वरिष्ठ मंत्रियों के साथ आए है। राष्ट्रपति भवन में मैक्रों को गॉड ऑफ ऑनर दिया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मैक्रों और उनकी पत्नी ब्रिगित मैरी क्लाउड मैक्रों का राष्ट्रपति भवन में स्वागत किया।उन्होंने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हैदराबाद हाऊस में मुलाकात की।

आपको बता दे की मैक्रों शुक्रवार देर रात दिल्ली पहुंचे थे, जहां एयरपोर्ट जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद उनका स्वागत किया। मैक्रों सुबह राजघाट गए और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान उनकी पत्नी ब्रिगित मैरी क्लाउड भी साथ रहीं। राजघाट पर बापू को नमन करने के बाद उन्होंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात की।
मैक्रों ने राष्ट्रपति भवन में पारंपरिक स्वागत समारोह के दौरान कहा ,’ मैं भारत आकर बहुत खुश हूं और स्वयं को गौरवाविंत महसूस कर रहा हूं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गत वर्ष जुलाई में अपनी फ्रांस यात्रा के दौरान मुझे अपने देश आने का न्यौता दिया था। मेरा इरादा दोनों देशों के बीच खास कर, रक्षा और सुरक्षा के क्षेत्रों में सहभागिता का एक नये युग की शुरूआत करने का है।’उन्होंने दोनों देशों के संबंधों को ऐतिहासिक बताते हुए कहा,’मैं समझता हूं कि हमारे बीच बहुत बेहतर तालमेल है। दो महान लोकतांत्रिक देशों के बीच संबंध ऐतिहासिक हैं।’

हो सकते है यह समझौते

  1. इस यात्रा के दौरान दोनों देश विभिन्न क्षेत्रों, खासकर समुद्री सुरक्षा तथा आतंकवाद से निपटने के क्षेत्रों में संबंधों को मजबूत बनाने पर विशेष रूप से गौर करेंगे।
  2. फ्रांस के सहयोग से बन रहे जैतापुर (महाराष्ट्र) परमाणु बिजली संयंत्र को लेकर भी समझौते पर हस्ताक्षर की उम्मीद है।
    संयुक्त सचिव (यूरोप पश्चिम) के नागराज नायडू ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘फ्रांस विशेष रूप से दक्षिण एशिया में आतंकवाद को लेकर भारत के नजरिये का समर्थन करता है। हम नए क्षेत्रों खासकर समुद्री सुरक्षा, आतंकवाद निरोधक उपाय तथा अक्षय ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में दोनों की बढ़ती सहमति देख रहे हैं।’’
  3. इसके अलावा भारत और फ्रांस के बीच रणनीतिक भागीदारी में रक्षा, परमाणु ऊर्जा तथा अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग का मामला शामिल हैं।
  4. ‘‘अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत और फ्रांस के बीच एक परिपक्व गठजोड़ है और हम इसे नए स्तर ले जाना पसंद करेंगे।’’ भारत और फ्रांस के बीच अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग पांच दशक से भी पुराना है। परंपरागत क्षेत्रों के अलावा अक्षय ऊर्जा, उच्च गति वाली ट्रेन और व्यापार में सहयोग बढ़ाने पर भी जोर होगा।
    बताते चले की पीएम मोदी के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद मैक्रों विद्यार्थियों के साथ एक खुली चर्चा में शामिल होंगे. इसमें विभिन्न स्तर के करीब 300 छात्रों के भाग लेने की उम्मीद है। राष्ट्रपति मैक्रों ज्ञान सम्मेलन में भी भाग लेंगे। इसमें दोनों पक्षों के 200 से अधिक शिक्षाविद शामिल होंगे। फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों 12 तारीख को वाराणसी जाएंगे, जहां वो गंगा आरती में शरीक होंगे। प्रधानमंत्री भी राष्ट्रपति के साथ काशी में मौजूद रहेंगे। इसके अलावा वो प्रधानमंत्री के साथ मिर्जापुर में सौर संयंत्र का उद्घाटन करेंगे। मैक्रों अपनी पत्नी के साथ ताज का दीदार करने भी जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *