Friendship Day 2018: इस बार 5 अगस्त को क्यों मनाया जा रहा फ्रेंडशिप डे?जानिए पूरी हिस्ट्री

कहा जाता है कि जब दोस्त साथ हो तो हर मुश्किल आसान हो जाती है। दोस्‍ती का रिश्‍ता सबसे खास होता है। इस खास रिश्ते को सेलिब्रेट करने का दिन आज है। आज पूरी दुनिया में फ्रेंडशिप डे मनाया जा रहा है। लेकिन क्‍या आप आपको पता है कि फ्रेंडशिप डे क्यों मनाया जाता है? अौर यह इस बार 5 अगस्त को क्यों मनाया जा रहा है।

दरअसल प्रथम विश्व युद्ध के बाद कई देशों में दुश्मनी हद से ज्यादा बढ़ गई थी जिसकी वजह से लोगों में एक दूसरे के प्रति नफरत बढ़ती चली जा रही थी तब 1935 में अमेरिकी सरकार ने फ्रेंडशिप डे की शुरुआत कर लोगों को अमन का संदेश दिया था। उस समय से ही हर साल अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे मनाया जाने लगा। इंडिया में भी काफी पॉपुलर है। सोशल मीडिया के बढ़ते ट्रेंड के चलते बड़ी ही धूमधाम से दोस्ती-यारी के इस दिन को भारत ये यूथ मनाते हैं। लेकिन भारत से पहले दक्षिण अमेरिकी देश खासकर पैराग्वे में फ्रेंडशिप डे  काफी जोरो-शोरों से मनाया जाता था। यहां 1958 में पहले अंतरराष्ट्रीय फ्रेंडशिप दिवस का प्रस्ताव रखा गया था।जिसके बाद शुरू में ग्रीटिंग कार्ड्स को इस दिन अपने दोस्तों को देने का बढ़ावा मिला।

यह भी पढ़ेंःअखबार से आप की सेहत पर पड़ सकता है बुरा असर

दुनियाभर के अलग-अलग देशों में फ्रेंडशिप डे अलग-अलग दिन मनाया जाता है। 27 अप्रैल 2011 को संयुक्त राष्ट्र संघ की आम सभा ने 30 जुलाई को आधिकारिक तौर पर इंटरनेशनल फ्रेंडशिप डे घोषित किया था। हालांकि, भारत सहित कई दक्षिण एशियाई देशों में अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है। ओहायो के ओर्बलिन में 8 अप्रैल को फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है। कुछ देशों में इसे अगस्त के पहले रविवार को नहीं बल्कि दूसरे रविवार को मनाया जाता है। फ्रेंडशिप डे रविवार को होने की वजह से सेलिब्रेट का मजा दोगुना हो गया। इस दिन को यादगार बनाने के लिए दोस्त एक-दूसरे को फ्रेंडशिप बैंड बांधते है। दोस्तों के साथ पूरा दिन बिता कर अपनी दोस्ती को आगे तक ले जाने और किसी भी मुसीबत में एक दूसरे का साथ देने का वादा करते हैं। हालांकि जिनके पास गिफ्ट्स और कार्ड देने की क्षमता नहीं है, वो अपने प्यार के एहसास से ही दोस्त को दोस्ती का महत्व समझा देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *