उत्तराखंड में सराहनीय पहल ,नाबालिग से दुष्कर्म पर होगी फांसी ,पीड़ितों को मिलेगा इंसाफ

Initiative in Uttarakhand, minor will be hanged on rape, victims will get justice

प्रदेश में बढ़ते महिला अपराधों की रोकधाम के लिए सरकार सख्त रुख अख्तियार करती नज़र आरही है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गुरूवार को मीडिया से अनौपचारिक वार्ता करते हुए कहा की प्रदेश में नाबालिग बच्चियों के साथ होने रेप जैसी दुर्घटनाओं में अपराधी को फांसी की सजा दिये जाने का प्राविधान किया जायेगा। जल्द से जल्द सरकार इस विधेयक को विभानसभा में पारित कर देगी। साथ ही पीड़ितों को सहयता राशि भी दी जाएगी। ताकि उन्हें इंसाफ मिल सके।

बता दे की कठुआ गैंगरेप की घटना के बाद मोदी सरकार ने गत अप्रैल माह में नाबालिग के साथ रेप में फांसी की सजा दिए जाने के लिए प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस (पॉक्सो) एक्ट में संशोधन करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। इसके तहत 12 साल तक की बच्ची से रेप के दोषियों को मौत की सजा देने का प्रावधान है। इस आधार पर मध्य प्रदेश, पंजाब इस संशोधन को मंजूरी दे चुके हैं, जबकि उत्तर प्रदेश में इसे लेकर कवायद चल रही है। वहीं इस और अब उत्तराखडं भी पहल करने जा रहा है। बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने काशीपुर में यह प्रावधान राज्य में लागू किए जाने की बात कही। उन्होंने महिलाओं विशेषकर बेटियों की सुरक्षा को चिंता का विषय बताया। यह भी कहा कि इस संबंध में विधानसभा सत्र में विधेयक पास किया जाएगा। इसमें 12 साल या उससे कम उम्र की बेटियों के साथ दुराचार करने वाले आरोपियों को फांसी की सजा देने का प्रावधान किया जाएगा। कानूनी प्रावधान के साथ-साथ समाज में नैतिक आंदोलन भी राज्य भर में चलाया जाएग।ताकि इस प्रकार की जघन्य अपराधों पर रोक लगाई जा सके। उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा सत्र में इस सम्बंध में विधेयक लाया जाएगा।
यह भी पढ़े :उत्तराखंड में कलयुगी भाई ने किया रिश्तों को शर्मसार ,अपनी ही बहन से किया दुष्कर्म
प्रदेश में भारी वर्षा से हुए नुकसान के सवाल पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि इस हेतु सभी जिलाधिकारियों को 50-50 लाख रूपये की धनराशि दी जा चुकी है, उन्होंने कहा कि जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं कि आपदा पीड़ितों को त्वरित राहत एवं अहेतुक सहायता उपलब्ध करायी जाय। मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा से हुए नुकसान का आंकलन के कार्य में समय लगता है फिर भी हमारी कोशिश है कि शीघ्र अतिशीघ्र इसका आंकलन कर लिया जाए ताकि प्रभावितों को राहत पहुंचाई जा सके। उन्होंने कहा कि आपदा पीड़ितों की मदद के लिये धनराशि की कमी नही होने दी जायेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *