गढ़वाली संगीत से जुड़ यह युवा बना उत्तराखंड का रॉकस्टार,साइंस का था छात्र

uttarakhand rockstar

देवप्रयाग : जिस तरह आजके युवा अपनी संस्कृति अपनी मातृभाषा गढ़वाली बोलने में झिझकते है वही यह युवा उसी भाषा से अपनी एक नई सोच के साथ जुड़ उसे हर जुबां तक पंहुचा रहा है। इस युवा ने गढ़वाली भाषा में गायन कर अपनी प्रतिभा, अपनी आवाज़ से हर दिल में बसाने का काम किया है।

अपने सिंगिग स्टाइल से इस युवा ने न सिर्फ गढ़वाली गीतों को नयापन दिया बल्कि उन्हें आज की युवा पीढ़ी के टेस्ट के अनुसार पेश किया है, जिसे युवाओं में बेहद पसंद किया जा रहा है।उत्तराखंड के देवप्रयाग निवासी शाश्वत पंडित आज गढ़वाल में सिंगिंग के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बना चुका है।


यह भी पढ़े :हल्द्वानी के युवक ने गूगल में पकड़ी गलती, मिले सौ डालर
युवा दिलों की धड़कन बने शाश्वत पंडित अपनी गढ़वाली भाषा को प्रमोट करने के लिए यू-ट्यूब पर how to Speak Garhwali से एक लेसन भी चलाते है। उनकी यह कोशिश लोगों को बेहद पसंद आई, जिसने उनकी फैन फॉलो‌इंग को भी बढ़ा दिया।
शास्वत ने 2012 में इंडियन आइडियल -6 के लिए भी ऑडिशन दिए थे, जिसमें उन्होंने टॉप 25 में अपनी जगह बनाई थी। अपने कल्चर को प्रमोट करने के लिए शास्वत विदेशों में भी शो करते है।

उन्होंने गढ़वाल यूनिवर्सिटी श्रीनगर से M.C बायोटेक किया है, लेकिन साइंस से पढ़ाई कर रहे शास्वत ने इसमें अपना करियर बनाने के बजाय सिंगिग को चुना। अपनी सिंगिग ही नहीं बल्कि अपने गुड लुकिंग स्टाइल से लाखों दिलों में अपनी जगह बनाने वाले शाश्वत पंडित ने साइंस पढ़ने के बाद संगीत की दुनिया में कदम रखा वो भी केवल अपनी बोली भाषा को बचाने के लिए और उनका ये प्रयास रंग ला रहा भी है। युवाओं की जुबां पर उनके गढ़वाली मैसअप इस बात का प्रमाण है। प्रदेश को शास्वत जैसे युवाओ की ही ज़रूरत है जिससे हमारी पहाड़ो की सभ्यता , संस्कृति बनी रहे और अन्य युवा भी इनसे प्रेरणा ले।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *