उत्तराखंड का एक और लाल मातृभूमि पर कुर्बान , आज सुबह कश्मीर में आतंकी मुठभेड़ में शहीद

Kurbaan on Uttarakhand's another son Motherland,

उत्तराखंड का एक और जवान आज सुबह मातृभूमि पर कुर्बान हो गया। हस्ते हस्ते आतंकियों से लोहा लेते हुए मात्र भूमि पर प्राण न्यौछावर करने वाला यह जवान रुद्रप्रयाग जनपद के कबिल्ठा गांव का निवासी था। जानकारी के अनुसार आज सुबह जम्मू-कश्मीर के बांदीपुरा में आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में सेना के दो जवान शहीद हो गए। जिनमे एक प्रदेश का सपूत था।

यह जवान उत्‍तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले के कबिल्‍ठा गांव का रहने वाला था। इसकी पहचान मानवेंद्र के रूप में हुई। सेना के जवान शहीद का पार्थिव शरीर के लेकर वहां से रवाना हो गए हैं। आज शाम तक शहीद का पार्थिव शरीर के गांव पहुंचे की उम्‍मीद है। जवान की शहादत की खबर सुनकर गांव में शोक की लहर है। बता दे की यह मुठभेड़ जम्मू-कश्मीर के बांदीपुरा में हुई है। जिसमे सेना के दो जवान शहीद हो गए है।
यह भी पढ़े :
मोदी सरकार के कार्यकाल में देश ने खोए 71 जवान
पिछले चार सालों में जब से मोदी सरकार है, इस साल सबसे ज्यादा जवान सीमा पर सीजफायर उल्लंघन में शहीद हुए हैं। आंकड़े कुछ इस तरह हैं- साल 2014 में तीन जवान शहीद हुए। साल 2015 में 10 जवानों की शहादत हुई। वहीं 2016 में 13 जवानों ने देश के लिए अपनी जान दी। 2017 पाकिस्तानी गोलीबारी में 18 जवानों को अपनी जानें गंवानी पड़ी और 2018 में अब तक 27 जवान शहीद हो चुके हैं। गौर करने वाली बात ये है कि साल 2018 में अभी जून का महीना चल रहा है और इस हिसाब से ये साल अभी आधा खत्म भी नहीं हुआ है। आपको बता दें कि चार साल में कुल 71 जवानों ने देश के लिए कुर्बानी दे दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *