शिक्षा की गुणवत्ता में बढ़ोत्तरी के लिए ’’रूपान्तरण अभियान’’ का शुभारम्भ

Launch of "Conversion Campaign" to increase the quality of education

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने बुधवार को अल्मोड़ा में आयोजित एक कार्यक्रम में सरकारी विद्यालयों की शिक्षा व्यवस्था में जन सहयोग से अच्छी सुविधायें लाकर शिक्षा की गुणवत्ता में बढ़ोत्तरी के लिए ’’रूपान्तरण अभियान’’ का भी शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कक्षा 06 से 12 तक के गरीब एवं वंचित वर्ग के बच्चों को गुणवत्ता युक्त शिक्षा प्रदान करने के लिये गढ़वाल एवं कुमाऊं मण्डलों में एक-एक विशेष विद्यालय खोले जायेंगे। कुमाऊं मण्डल में यह विद्यालय अल्मोडा में खोला जायेगा। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने जिलाधिकारी को निर्देश दिये कि विद्यालय के लिये भूमि चयनित कर शीघ्र ही प्रस्ताव शासन का उपलब्ध करायें।
’’रूपान्तरण अभियान’’ का मुख्य उद्देश्य सरकारी विद्यालयों को भौतिक संसाधनों से युक्त बनाना तथा फर्नीचर, स्वच्छ पेयजल, पंखा, हीटर, क्रीड़ा सामग्री व्यवस्था, कम्प्यूटर प्रोजेक्टर के माध्यम से स्मार्ट क्लास का संचालन, सुरक्षित व सुसज्जित भवन, विद्यार्थियों की अन्य मूलभूत आवश्यकताएं, शिक्षकों अभिप्रेरण जिससे वे अपना अधिकतम योगदान शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने में दे सकें, छात्र-छात्राओं में रचनात्मकता, सृजनशिलता एवं मानवता की भावनाओं का विकास, समाज को सरकारी विद्यालयों के प्रति संवेदनशील एवं सहयोग हेतु प्रेरित करना मुख्य हैं। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन व विद्यालयी शिक्षा द्वारा अल्मोड़ा में चलाये गये इस अभियान की प्रशंसा की। संयुक्त मजिस्ट्रेट रानीखेत हिमांशु खुराना व उप शिक्षाधिकारी गीतिका जोशी सहित शिक्षा विभाग के अन्य अधिकारियों द्वारा किये गये इस रूपान्तरण कार्यक्रम के लिए उन्होंने अधिकारियों की भी प्रशंसा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के चहुॅमुखी विकास के लिए सरकार कृत संकल्प है।

यह भी पढ़े:बैंकाॅक में आयोजित इन्वेस्टमेंट प्रमोशन सेमिनार में उत्तराखण्ड करेगा प्रतिभाग
मुख्यमंत्री ने कहा कि कहा कि धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश के चारोधामों को टेल-मेडिसन सुविधा से शीघ्र जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। यही नहीं एच.पी. कम्प्यूटर कम्पनी द्वारा भी राज्य के चिकित्सालयों में अपनी सुविधाएं देने की बात की गयी है ताकि चिकित्सालय भी तकनीक के क्षेत्र में समृद्ध हो सकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में चिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिए अभी तक 1141 नये डाक्टरों की तैनाती की जा चुकी है। विद्यालयों में भी शिक्षकों की तैनाती की जा रही है। उन्होंने कहा कि जल्द ही ’’एक वर्ष रोजगार के नाम’’ कार्यक्रम प्रारम्भ किया जायेगा। जिसमें जनता से नौजवानों एवं महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए सुझाव मांगें जायेंगे। इस अवसर पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अजय भटट, विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान , उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डाॅ.धन सिंह रावत, राज्यमंत्री रेखा आर्य, विधायक महेश नेगी सहित जिला स्तरीय अधिकारी, स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं क्षेत्रीय जनता उपस्थित थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *