देहरादून: शिक्षिका की नौकरी छोड़ की यह पहल, बनाया देश और दुनिया में मक़ाम

bharati vayas

उत्तराखंड की भारती व्यास ने एक अनोखी पहल की जिसने उन्हें देश और दुनिया में एक नया मक़ाम दिया। शिक्षिका की नौकरी छोड़ भारती ने एक संस्था खोल लोगो को न सिर्फ रोजगार प्राप्त कराया। बल्कि उत्तराखंड का नाम भी आगे बढाया है। आज इनकी ख्याति इतनी फ़ैल गई है की इनके बने उत्पाद आज विदेशों में भी जा रहे है।

आपको बता दे की भारती ब्यास जो कि एक अध्यापिका थी किन्तु उन्होंने अध्यापिका की नौकरी छोड़कर उत्तराखण्ड के पहाड़ों में होने वाले उत्पादों से घर पर बैठे ही अपना रोजगार खोलने की सोची। उन्होंने अपनी संस्था का नाम भारती इण्टरप्राइजेज रखा और इस संस्था में बनने वाले उत्पादों का नाम “स्वाद” रखा। उनकी संस्था में नींबू चटनी, लहसन चटनी, आम चटनी, आम अचार, हरी मिर्च का अचार, लाल मिर्च का अचार, लहसन का अचार, मिक्स अचार और केले व आलू के चिप्स साथ ही आलू का लच्छा बनाया जाता है। उन्होंने बताया कि हमारे पास हरे धनिये के साथ आलू के चिप्स, खजूर की चटनी व आम का चूरना उपलब्ध है। इनकी सभी उत्पादों की कीमत मात्र 60 रूपये से लेकर 150 रूपये तक है। वे इन उत्पादों को उत्तराखण्ड के पहाड़ी क्षेत्रों से लाती है जो कि पहाड़ी में ऐसे ही बर्बाद हो जाता है।उन्होंने बताया कि हमारे उत्पादों में मूख्य रूप से नींबू की चटनी आस्ट्रेलिया, दुबई आदि विदेशों में भी जाता हैै।
यह भी पढ़े :देहरादून में “नेशनल हैण्डलूम एक्सपो” शुरू,यह सब है खास

भारती ब्यास ने कहा कि हम इस संस्था में महिलाओं को ट्रेनिंग भी देते हैं कि किस तरह से ये उत्पाद तैयार किये जाते हैं अभी तक 2004 से हमारी संस्था में लगभग 200 महिलाओं ने ट्रेनिंग लेकर अपना रोजगार खोला है। यह संस्था एकता विहार सस्त्रधारा देहरादून में है। नेशनल हैण्डलूम एक्सपों में बुधवार को लैंसडाउन के विधायक दलीप रावत जी ने भ्रमण किया। उन्होंने एक्सपों में लगे सभी स्टाॅलों को देखा साथ ही नंदा देवी, त्रिशूल व चैखम्भा पवेलियन तथा भारत सरकार द्वारा लगाया गया पवेलियन थीम की काफी सराहना की। उन्होंनेउद्योग निदेशालय का बधाई दी और साथ ही भविष्य में भी इस तरह की प्रदर्शनी लगाने के लिए कहा।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *