माँ ने दिया खौफनाक घटना को अंजाम , दूध मांग रही 1 साल की मासूम को उतारा मौत के घाट

Mother gave birth to a dreadful incident, demanded milk, 1 year old innocent killed

भोपाल: माँ को ममता के लिए जाना जाता है ,उसकी ममता की मिसाले दी जाती है। कहा जाता बच्चा चाहे उसे कितना ही परेशान क्यों ना करे, वो कभी उससे नाराज नहीं हो सकती है। पर एक ऐसी घटना प्रकाश में आयी है जिसने माँ की ममता को ही शर्मसार कर दिया। एक माँ ने दिल दहलाने वाली घटना को अंजाम दे सबको झंकझोड़ के रख दिया। भोपाल मध्यप्रदेश के धार जिले में बार-बार दूध के लिए रो रही मासूम बच्‍ची की उसकी अपनी माँ ने ही गला काटकर हत्‍या कर दी। आरोपी मां को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है।

आपको बता दे कि एक मां ने अपनी ही 12 माह की मासूम बच्ची की हत्या कर दी है। मासूम दूध पीते वक्त ज्यादा रोती थी। इसी से गुस्से में आकर मां ने पास में रखे दराते से मासूम का गला रेत डाला। इससे ज्यादा खून बहने से मासूम की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। घटना तलवाड़ी पटेलपुरा की है। घटना को अंजाम देने के बाद भी माँ को अपनी करनी का पछतावा नहीं है।

कुक्षी थाना प्रभारी सीबी सिंह ने बताया कि घटना बुधवार दोपहर 2.30 बजे की है। आरोपी मां अनिता पति दलसिंह घर में ही गोद में अपनी 12 माह की बेटी को दूध पिला रही है। बरमादे में झूले पर काकी सास रंगबाई झूला झुल रही थी। दूध पिलाते वक्त अनिता की बेटी रोने लगी तो उसे गुस्सा आ गया और पास में रखा दराता उठाया उसका गला काट दिया। काकी सास को कुछ देर बच्ची की रोने की आवाज आई। अचानक आवाज बंद हो गई। अनिता ने बच्ची का गला काटने के बाद बाहर आई और बाहर से दरवाजे की सांकल लगी दी और घर से बाहर चली गई। काकी सास को शंका हुई। उसने पड़ोसियों को बुलवा कर दरवाजा खुलवाया तो अंदर मासूम का लगा कटा। जमीन पर खून ही खून फैला था। पास ही हत्या में इस्तेमाल दराता पड़ा था। घटना के वक्त पति दलसिंह कुक्षी किसी काम से गया। कुक्षी में पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।हत्या में इस्तेमाल हथियार दराता बरामद कर लिया है। अनिता को भी पकड़ लिया है। चेहरा देखकर तो पछतावे जैसी बात सामने नहीं आर रही है। घर वालों ने बताया कि घर में सभी से कम बात करती थी।

यह भी पढ़े :देहरादून के युवको पर हाथी की वीडियो बनाना पड़ा भारी, गजराज ने लिया ऐसा इन्तेक़ाम , मौत
पुलिस ने बताया कि घटना के वक्त पति दलसिंह कुक्षी गया था। काकी सास घर के बरामदे में झूला झूल रही थी। अनिता की एक चार साल की बड़ी बेटी है जो दादी के साथ खेत पर गई थी। वहीं घटना को अंजाम देेने के बाद मां के चेहरे पर किसी प्रकार के पछतावे की कोई शिकन नहीं थी। वह पकड़ने के बाद भी चुपचाप रही। उसे घटना पर किसी प्रकार का कोई पछताव नजर नहीं आया। बताया जा रहा है वह घर में कम ही बोलती थी। घटना के बाद भी उसने किसी से बात नहीं की।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *