NCRB की रिपोर्ट जारी : महिला अपराध की घटनाओ में हुई वृद्धि , यह प्रदेश आगे

ncrb reprt

देश में अपराधों के आंकड़े राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जारी कर दिए है। इन आंकड़ों के अनुसार देश में आपराधिक घटनाओं में यूपी सबसे आगे है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली भी इस लिस्ट में पीछे नहीं है। आईपीसी अपराधों के तहत अपराध दर के मामले में राजधानी ने सबको पीछे छोड़ दिया है।देश भर में कुल मिलाकर जितनी भी आपराधिक घटनाएं होती हैं, उनमें से 9.5% घटनाएं अकेले यूपी में होती हैं। NCRB के आंकड़ों के मुताबिक आपराधिक घटनाओं के मामले में मध्य प्रदेश (8.9%), दूसरे नंबर पर ,महाराष्ट्र (8.8%) तीसरे और केरल (8.7%) चौथे नंबर पर है।


महिला अपराध के मामलों में 2.9% की बढ़ोतरी हुई।
पिछली बार की ही तरह इस बार भी महिलाओ के खिलाफ अपराध के सबसे ज्यादा मामले पति और रिश्तेदारों के अत्याचार के रूप में सामने आए हैं। ऐसे एक लाख से ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं,जहां 2014 के मुकाबले 2015 में महिलाओ के खिलाफ अपराध में 3 प्रतिशत की कमी देखी गई थी, वहीं 2016 में ये 2.9 प्रतिशत बढ़ गए हैं।वहीं दूसरे नंबर पर महिलाओं से रेप की कोशिश और अन्य शीरीरिक उत्पीड़न शामिल है, जिनकी संख्या 84 हज़ार है. इसमें घूरने के 932 और पीछा करने के 7 हज़ार से ज्यादा मामले सामने आए हैं।तीसरे नंबर पर अपहरण के 64000 मामले हैं. 2015 के मुकाबले यह संख्या 4000 ज्यादा बढ़ी है. इसमें शादी के लिए अपहरण किया जाने के मामले सबसे ज्यादा है, करीब 33 हज़ार है। रेप के मामले इस लिस्ट में चौथे नंबर पर है।

महानगरों में अपराध के मामले में दिल्ली सबसे आगे

देश के सभी महानगरों में अपराधों के मामले में दिल्ली अव्वल रहा है | महानगरों में कुल अपराधों में अकेले दिल्ली में 38.8% अपराध दर्ज हुए. दूसरे नंबर पर बेंगलुरू (8.9%) और तीसरे पर मुंबई (7.7%) रहा | महानगरों में बलात्कार के कुल मामलों में अकेले दिल्ली में 40 फीसदी हुए. मुंबई में बलात्कार के 12 फीसदी मामले दर्ज हुए |

दंगों की संख्या में 5% की कमी
NCRB रिपोर्ट के मुताबिक, 2016 में पिछले वर्ष की तुलना में 6% की बढोतरी के साथ 88,008 अपहरण के मामले दर्ज हुए है। देश मे दंगों की संख्या में 2015 की तुलना में 2016 में 5% की कमी आई है। 2016 में दंगों के 61974 मामले दर्ज हुए थे। जबकि 2015 में 65255 ऐसे मामले दर्ज हुए थे।

हत्याओं के मामले में आई गिरावट

साल 2016 की इस रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि बीते तीन साल में हत्याओं के मामले में पहली बार गिरावट आई है। 2016 में पिछले वर्ष की तुलना में 5.2% की गिरावट के साथ 30,359 हत्या के मामले दर्ज हुए. 2015 में हत्या के 32127 मामले दर्ज हुए थे. 2016 में यूपी में सबसे ज्यादा 4879 मामले दर्ज हुए | दूसरे पर बिहार रहा, जहां 2581 हत्या के मामले दर्ज हुए |

यह भी पढ़े :उत्तराखंड: महिलाओं के लिए सुरक्षित,महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की रिपोर्ट

रेप के मामलों में12.4% बढ़ोतरी

रेप के मामले 2015 की तुलना में 2016 में 12.4% बढ़े हैं. 2016 में 38,947 रेप के मामले देश मे दर्ज हुए है इनमें सबसे ज्यादा मामले 4,882 मध्य प्रदेश में दर्ज हुए। दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश रहा, जहां रेप के 4,816 मामले दर्ज हुए है ।तीसरे नंबर पर महाराष्ट्र रहा, जहां 4,189 बलात्कार के मामले दर्ज हुए।

साइबर क्राइम में यूपी अव्वल
देश में साइबर क्राइम 2015 की तुलना में 2016 में 6% बढ़े. साइबर क्राइम में भी यूपी का नंबर पहला रहा है. जहां तक नकली नोटों की बात है तो 2016 में 15 करोड़, 92 लाख, 50 हजार 181 मूल्य के नकली नोट पकड़े गए. सबसे ज्यादा नकली नोट (5 करोड़, 65 लाख) दिल्ली से बरामद हुए. गुजरात में 2 करोड़, 37 लाख के नकली नोट मिले।

अपहरण के मामले में दिल्ली आगे
अपहरण के मामलों में भी राजधानी दिल्ली ने दूसरे महानगरों को पीछे छोड़ा। महानगरों में कुल अपहरण के मामलों में अकेले दिल्ली में 48.3 मामले दर्ज हुए. बच्चों के लापता होने के मामलों में सबसे अधिक महाराष्ट्र और दूसरे नंबर पर पश्चिम बंगाल में दर्ज हुए |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *