उत्तराखंड में नर्सों के 700 पदों पर होगी भर्ती

Nurses recruitment in 700 posts in Uttarakhand

प्रदेश के अस्पतालों में नर्सो की कमी के कारण मरीजों की परेशानी को देखते हुए राज्य सरकार ने सरकारी अस्पतालों में नर्सो की भर्तियां करने का फैसला लिया है इस फैले की घोषणा स्वयं मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने की है।
कम ने कहा है की सरकारी अस्पतालों में नर्सों की कमी को दूर करने के लिए सात सौ नर्सों की भर्ती करने का फैसला लिया गया है। उत्तराखंड में भर्ती प्रक्रिया तीन महीने के भीतर शुरू कर दी जाएगी। ।

सीएम ने देहरादून के ट्रांसपोर्ट नगर में बुधवार को हुए एक कार्यक्रम में माना कि अस्पतालों में नर्सों की कमी है। इसके चलते नर्सों के 700 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। साथ ही जिला अस्पतालों में दो-दो कमरों में आईसीयू बनाने का भी काम शुरू हो गया है, ताकि आईसीयू में बेड की कमी को दूर किया जा सके जिससे गंभीर मरीजों को बेहतर इलाज मिल पाए। सीएम ने कहा कि इसके अलावा आपातकालीन सेवा 108 की गाड़ियां बढ़ाई जाएंगी।मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री की डिजिटल इंडिया की कल्पना को साकार करने के लिए उत्तराखण्ड ने अपने कदम बढ़ा दिए हैं। प्रदेश में सचिवालय से लेकर जनपद के छोटे कार्यालय तक बायोमैट्रिक व्यवस्था के साथ ही कार्यालय की प्रक्रियाओं को आॅनलाइन करने के प्रभावी प्रयास प्रारम्भ किये गये है ।
यह भी पढ़े :सूखती नैनीझील को बचाने के लिए सरकार कर रही यह प्रयास
एमडीडीए में आॅनलाइन भवन के नक्शे, शिकायत व सुझाव के लिए डैशबौर्ड की शुरूआत हो चुकी है। हमारा प्रयास सिस्टम में सुधार के साथ ही भ्रष्टाचार रोकने का है जिसमें जनसहयोग अपेक्षित है। व्यवस्था को शीर्ष से ठीक किया जाए, इसलिए सचिवालय से इसकी शुरूआत की गई है। सचिवालय में फाइलों का निस्तारण 7 की जगह अब 4 टेबल तक सीमित कर दिया गया है। उन्होने कहा कि सरकारी कार्य आॅनलाइन होने से कार्य में तेजी आयेगी तथा सिस्टम भी ठीक होगा। प्रदेश में अब ’’पिक एण्ड चूज’’ के आधार पर कार्य नहीं किया जायेगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने सरकार द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में उठाये गये जन कल्याणकारी कदमो की जानकारी भी दी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि हमारा प्रयास देहरादून को ट्यूबवैल की जगह ग्रैविटी का पानी देने का है, इसके लिए एक हजार करोड़ रूपये की योजना बनाई जा रही है। जमीन से पानी का दोहन कम होने से देहरादून की सुन्दरता बढ़ेगी तथा जमीन का जलस्तर भी बरकरार रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *