नवरात्रि विशेष : पहले दिन ऐसे करें मां शैलपुत्री की आराधना, होगी इस फल की प्राप्ति

नवरात्रि विशेष : पहले दिन ऐसे करें मां शैलपुत्री की आराधना, होगी इस फल की प्राप्ति

नई दिल्ली। शारदीय नवरात्रि 10 अक्टूबर से शुरू हो रहे हैं। नौ दिनों तक मां के नौ रुपों की उपासना की जाती है।  हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार यह नवरात्रि अश्विन शुक्‍ल पक्ष से शुरू होती हैं। शारदीय नवरात्र अधर्म पर धर्म की विजय का प्रतीक है। इस बार शारदीय नवरात्रि 10 अक्‍टूबर से 18 अक्‍टूबर तक हैं। 19 अक्‍टूबर को विजयदशमी मनाई जाएगी।

नवरात्रि में देवी दुर्गा के नवस्वरूपों की पूजा की जाती है। प्रथम नवरात्रि में माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है। पर्वतराज हिमालय की पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण इन्हें शैलपुत्री के नाम से जाना जाता है। माता वृषभ पर विराजमान हैं। उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल है और बाएं हाथ में कमल सुशोभित हैं। मां शैलपुत्री की आराधना करने से जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।नवरात्रि के प्रथम दिन लड़किया शिवालय जाकर भगवान शिव और माता पार्वती पर जल व दूध अर्पित करें। इसके बाद उन दोनों के मध्य मौली से गठबंधन कर नीचे लिखे मंत्र का 108 बार जाप करें। इससे लड़कियों को मनपसंद वर की प्राप्ति होगी और शीघ्र विवाह के योग बनेंगे।

“हे गौरी शंकर अर्धागिंनी यथा त्वं शंकर प्रिया

तथा माम कुरू कल्याणी कान्त कान्ता सुदुर्लभम्”

नवरात्रि में सुबह जल्दी उठकर स्नानादि के बाद सफेद आसन पर पूर्व की अोर मुंह करके बैठ जाएं। अपने सामने पीला वस्त्र बिछाकर उसके ऊपर 108 दानों की स्फटिक की माला रखें। उसके बाद माला के ऊपर केसर व इत्र छिड़क दें अौर नीचे लिखे मंत्र का जाप करें। इससे मनचाही नौकरी की प्राप्ति होगी।

“ॐ ह्रीं क्लीं वद-वद वाग्वादिनी-भगवती-सरस्वति,

मम जिह्वाग्रे वासं कुरु कुरु स्वाहा।”

सुबह शीघ्र उठकर स्नानादि कार्यों से निवृत होकर उत्तर दिशा की अोर मुख करके पीले आसन पर बैठ जाएं। अपने सामने तेल के नौ दीपक प्रज्वलित करें। श्रीयंत्र को पूजा स्थल पर रखें अौर पूजा समाप्त होने तक इन दियों को बुझने न दें। दीपक के सामने लाल चावल की ढेरी बनाएं अौर कुमकुम, फूल, धूप और दीप से पूजा पूर्ण करें। ऐसा करने से धन लाभ की प्राप्ति होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *