रुड़की में अधिकारी के फ़र्ज़ी हस्ताक्षर कर किया घोटाला

Roorkee official scribbles scam

रुड़की में घोटाले का एक सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। यहां नगर पंचायत कलियर में एक कर्मचारी ने अधिकारी के हस्ताक्षर कर हजारो का घोटाला किया है। आरोपी ने ठेकेदारों के रजिस्ट्रेशन की फीस और एक कर्मचारी का दो माह के वेतन को साफ़ कर दिया।मामला संज्ञान में आते ही मामले की जाँच की गई जिसमे आरोप सिद्ध पाया गया। आरोपी के विरुद्ध नोटिस जारी किया गया है।

आपको बता दे की नगर पंचायत कलियर में कार्यरत एक कर्मचारी ने अधिशासी अधिकारी शाहिद अली के फर्जी हस्ताक्षर कर दस ठेकेदारों का रजिस्ट्रेशन कर लिया। इतना ही नहीं रजिस्ट्रेशन के एवज में वसूल की गई फीस को भी गायब कर दिया। इसके साथ ही एक कर्मचारी को उपनल का कर्मचारी बताकर उसके नाम से दो माह का वेतन भी निकाल लिया। मामला संज्ञान में आने के बाद जेएम ने नायब तहसीलदार को जांच के निर्देश दिए। नायब तहसीलदार ने दफ्तर पहुंचकर अभिलेख मांगे तो उनको अभिलेख नहीं दिए गए। जिस पर उन्होंने नोटिस जारी कर दिया है।

ऐसे हुआ पर्दाफाश
मामले का पता इस प्रकार लगा की इस बीच अनुमोदन के एक फाइल लिए ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के पास पहुंची। फाइल में कुछ गड़बड़ी पाई गई तो इस बारे में उन्होंने ईओ से जानकारी ली। ईओ ने हस्ताक्षर को फर्जी बताया साथ ही कहा की यह नगर पंचायत के एक कर्मचारी करतूत बताया है । इस पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नितिका खंडेलवाल ने नायब तहसीलदार रुड़की प्रीतम सिंह को मामले की जांच सौंप दी। जिसपर नायब तहसीलदार नगर पंचायत के कार्यालय पहुंचे और इस मामले से जुड़ी सभी फाइलों को मांगा तो पता चला कि वह फाइल दरगाह दफ्तर भेजी गई हैं।
यह भी पढ़े :कोटद्वार : अंतर्राज्यीय चोर गिरोह का भंडाफोड़, चार गिरफ्तार
नायब तहसीलदार ने इस पर हैरानी जताते हुए कहा कि नगर पंचायत का रिकॉर्ड दरगाह के दफ्तर कैसे पहुंच गया।इसके बाद उन्होंने उक्त कर्मचारी को दो दिन में समस्त अभिलेख देने के निर्देश दिए और नोटिस थमाते हुए जवाब मांगा है। नायब तहसीलदार ने बताया कि अभिलेख मिलने के बाद आगे की कार्रवाई हो सकेगी। इस कार्रवाई के बाद से नगर पंचायत में हड़कंप मचा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *