मुंबई रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर पटरियों पर बैठे छात्र, घंटो लाखों यात्री हुए परेशान

Students sitting on the tracks on demand for jobs in the Mumbai Railway

मुंबई में परीक्षा पास करने के बाद भी नौकरी नहीं मिलने पर आक्रोशित अभ्यर्थी आज सुबह 7 बजे से रेल लाइनों पर धरने पर बैठ गए। छात्रों के आंदोलन की वजह से लोकल ट्रेनों का परिचालन लगभग चार घंटे तक बाधित रहा था। जिससे सुबह व्यस्त घंटों में लाखों रेल यात्री प्रभावित हुए।

मुंबई में प्रदर्शनकारियों द्वारा की गई पत्थरबाजी में जीआरपी के 5 और आरपीएफ के 6 जवान घायल हो गए। इनमें कई महिला सुरक्षाकर्मी भी शामिल हैं। पुलिस के अनुसार करीब 1000 छात्रों ने रेल ट्रैफिक को जाम कर दिया है। 4 साल पहले परीक्षा में पास होने के बावजूद इन छात्रों को नौकरी नहीं मिल रही है | इन परीक्षार्थियों की ट्रेनिंग भी पूरी हो चुकी है | छात्रों का दावा है की नौकरी न मिलने से निराश होकर 10 छात्र आत्महत्या भी कर चुके हैं उपनगरीय रेल सेवा की सेन्ट्रल लाइन पूरी तरह बंद है। इस लाइन से रोजाना करीब 40 लाख लोग यात्रा करते हैं|

कड़ी मशक्क्त के बाद छात्रों का रेल रोक आंदोनल खत्म हो गया। इस मामले में रेल मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि रेलवे में बड़ी तादाद में भर्ती किया जाना है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार भारतीय रेलवे ने रिक्रूटमेंट पॉलिसी बनाई है जो पक्षपात रहित और पारदर्शी है। फिलहाल अब धीरे-धीरे ट्रेनों का परिचालन शुरू किया जा रहा है। वहीं रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर रेल रोको आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। जिसके बाद 2 आरोपी की गिरफ्तारी भी की गई है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने आज विधानसभा को बताया कि रेलवे प्रशासन ने उन छात्रों से बातचीत शुरू कर दी है, विधानसभा में फडणवीस ने अपने बयान में कहा कि रेलवे ने अप्रेंटिस का कोटा 10 से बढ़ाकर 20 कर दिया है। उन्होंने कहा,”युवा रेलवे नौकरी में अप्रेंटिस के लिए100 प्रतिशत कोटे की मांग कर रहे हैं। रेलवे प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत शुरू कर दी है और जल्द ही इसका समाधान निकाल लिया जाएगा। ”

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, ‘रेलवे इस समय भर्तियां करने पर ध्यान दे रही है। निष्पक्ष, पारदर्शी और प्रतियोगी भर्तियां करने के लिए रेलवे ने सुप्रीम कोर्ट के गाइडलाइन्स के मुताबिक पॉलिसी तैयार की है। अप्रेंटिस कर चुके छात्रों को उम्र में भी छूट दी जा रही है। यह देश में एक बार में हुई सबसे बड़ी भर्ती होने वाली है। इसमें हर तरह के युवाओं को रेलवे जॉइन करने का मौका है।’
यह ही पढ़े :भारतीय रेलवे में दुनिया की सबसे बड़ी भर्ती , 90 हजार पदों के लिए ऐसे करे आवेदन
वहीं कैब चालकों और एप आधारित टैक्सी चालकों के द्वारा सोमवार को शुरू किए गए हड़ताल के बाद मंगलवार को इस प्रदर्शन के चलते करीब 45 लाख यात्रियों को लगातार दूसरे दिन परेशानी का सामना करना पड़ा. पुलिस ने प्रदर्शकारियों को तितर-बितर करने के लिए हल्का लाठी चार्ज किया, जिसके जवाब में उत्तेजित युवाओं ने पत्थरबाजी शुरू कर दी. इस प्रदर्शन में पांच लोग और कुछ पुलिसकर्मी घायल हुए. यहां तक कि स्थिति को संभालने के लिए पुलिस और रेलवे के शीर्ष अधिकारियों को घटनास्थल पर जाना पड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *