उत्तराखंड: फिल्म ‘पद्मावती’ पर प्रतिबंध लगाने के लिए प्रदर्शन , मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

padmawati protest

देहरादून : फिल्म का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। खुनी जंग और विवाद की आग अब प्रदेश तक पहुंच गई है। धर्मनगरी हरिद्वार में भी फिल्म के विरोध में सदाए गूंज रही है। वहां पद्मावती’ पर प्रतिबंध लगाने की मांग को लेकर उत्तराखंड क्षत्रिय महासंघ ने प्रदर्शन किया और क्षत्रिय समाज के लोगों ने फिल्म निर्माता भंसाली का पुतला दहन कर मुख्यमंत्री को पत्र लिखा।

अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के बैनर तले हरिद्वार में क्षत्रिय समाज के लोगों ने रानीपुर मोड़ पर इकठ्ठा होकर पद्मावती फिल्म का विरोध किया। और जोरदार नारेबाजी कतरे हुए फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली का पुतला दहन किया।जिलाधिकारी के माध्यम से प्रदर्शन स्थल पर अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर पद्मावती फिल्म पर प्रतिबंध लगाए जाने की मांग की।

यह भी पढ़े:NH-74 घोटाला :हरीश रावत की राजनीति केवल आरोपों पर टिकी : यशपाल आर्य

मुख्यमंत्री ने इस मामले में कहा है की वह पहले फिल्म का अवलोकन करेंगे उसके उपरांत ही फैसला किया जाएगा। उन्होंने कार्यवाही का आश्वासन भी दिया है।

उत्तराखंड क्षत्रिय महासंघ के अध्यक्ष एडवोकेट आरएस राघव का आरोप है कि फिल्म में मेवाड़ के गौरवशाली इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है। फिल्म के जारी ट्रेलर में अलाउद्दीन खिलजी का महिमामंडन किया जा रहा है। जिससे क्षत्रियों एवं सनातन धर्म अनुयायियों की भावनाएं आहत हो रही हैं। इसके साथ ही उन्होंने फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की भी मांग की है।

उन्होंने कहा की निर्माता का आर्थिक हितों की पूर्ति के लिए किसी समाज के इतिहास से छेड़छाड़ करना अत्यंत दुखद है। कहा कि इस फिल्म से लाखों राजपूतों की भावनाएं आहत हुई है। और कई प्रदेशों में इस फिल्म पर रोक भी लगा दी गई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *