युवा को नहीं मिल रहा रोजगार, 500 में से केवल तीन को मिल रही है नौकरी

0
38
युवाओं को नहीं मिल रहा रोजगार, 500 में से केवल तीन को मिल रही है नौकरी
प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। देश में बेरोजगारी बड़ी समस्या बनती जा रही है। रोजगार की कमी के कारण युवाओं को रोजगार मुहैैया नहीं हो पा रहा है। वहीं गुजरात को छोड़कर पूरे देश के रोजगार केंद्रों द्वारा 2015 में नौकरी दिलाने का औसत 0.57 प्रतिशत रहा यानी रोजगार केंद्र में नौकरी की तलाश में पंजीकरण कराने वाले हर 500 में से केवल तीन को रोजगार मिल पाया। गुजरात में ये औसत पिछले कई सालों से 30 प्रतिशत से अधिक रहा है। गुजरात और गोवा को छोड़ दें तो देश का कोई भी राज्य एक प्रतिशत अभ्यर्थियों को भी रोजगार नहीं दिला पाया। हालांकि साल 2015 के पहले नौ महीने में श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के अधीन काम करने वाले रोजगार केंद्रों में पंजीकरण कराने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ था। पिछले चार सालों से रोजगार केंद्रों में पंजीकरण कराने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है।

गौरतलब है कि गुजरात में केवल 6.88 लाख लोगों ने नौकरी के लिए पंजीकरण कराया। नौकरी के लिए पंजीकरण के मामले में तमिलनाडु के बाद पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, केरल और महाराष्ट्र का स्थान रहा। 2015 में नौकरी के लिए पंजीकरण कराने वाले करीब 60 प्रतिशत उम्मीदवार (2.71 करोड़) इन पांच राज्यों के थे। इन पांच राज्यों में 27,600 लोगों को रोजगार केंद्र से नौकरी मिली। यानी इन राज्यों में 0.1 प्रतिशत लोगों को रोजगार केंद्रों के माध्यम से रोजगार मिल सका। नेशनल करियर सर्विस के तहत पूरे देश में चलने वाले रोजगार केंद्रों में 53 सेक्टरों में तीन हजार लोगों को प्राइवेट और सरकारी नौकरी दिलायी गयी। नेशनल करियर सर्विस के पोर्टल पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार इस दौरान कुल 14.85 लाख लोगों ने नौकरी के लिए पंजीकरण कराया था। पोर्टल नौकरी मेला भी लगवाता है जिससे नियोक्ता और अभ्यर्थी आपस में संवाद कर सकें। श्रम मंत्रालय के सालाना रिपोर्ट के अनुसार रोजगार केंद्र द्वारा दिलाई गई ज्यादातर नौकरियां प्राइवेट सेक्टर की थीं। श्रम एवं रोजगार मंत्रालय द्वारा साल 2012 से सितंबर 2015 तक के आंकड़े इकट्ठा किए गए हैं। रोजगार केंद्र द्वारा नौकरी दिलाने के मामले में गुजरात देश में अव्वल है लेकिन नौकरी खोजने वालों की संख्या सबसे ज्यादा तमिलनाडु में रही। साल 2015 के पहले नौ महीनों में रोजगार केंद्र में 80 लाख लोगों ने पंजीकरण कराया।

ये भी पढ़ें-इस तरह करें 12वीं के बाद करियर की तैयारी

उत्तर छोड़ दें: